Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नयनादेवी मंदिर जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए ये होंगी गाइडलाइंस, जानने के लिए यहां पढ़ें

हिमाचल प्रदेश में साढ़े पांच माह गुरुवार से मंदिर खोले जा रहे हैं। लोग अब देवी-देवताओं के दर्शन कर सकेंगे। भाषा एवं संस्कृति विभाग की ओर से जारी एसओपी के मुताबिक मंदिरों में 60 साल से अधिक और 10 साल से कम बच्चों और गर्भवती महिलाओं के आने पर रोक है।

नयनादेवी मंदिर जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए ये होंगी गाइडलाइंस, जानने के लिए यहां पढ़ें
X
फाइल फोटो

हिमाचल प्रदेश में साढ़े पांच माह गुरुवार से मंदिर खोले जा रहे हैं। लोग अब देवी-देवताओं के दर्शन कर सकेंगे। भाषा एवं संस्कृति विभाग की ओर से जारी एसओपी के मुताबिक मंदिरों में 60 साल से अधिक और 10 साल से कम बच्चों और गर्भवती महिलाओं के आने पर रोक है। श्री नयना देवी जी मंदिर में हर श्रद्धालु का डाटा रिकॉर्ड किया जाएगा। एहतियात की जानकारी देने के लिए सभी मंदिर परिसरों में स्पीकर भी लगाए गए हैं। इसमें कोविड की गाइडलाइन के बारे में जागरूक किया जाएगा। श्री नयना देवी जी मंदिर परिसर में सैनिटाइजर, जागरूक बोर्ड सहित अन्य सारी तैयारियां पूरी हो गई हैं।

मंदिर आने वालों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। अगर कोई संदिग्ध पाया गया तो उसे मंदिर परिसर में बनाए गए आईसोलेशन वार्ड में रखा जाएगा। इसके साथ श्रद्धालुओं का मूर्तियों को छूना और घंटियों को हाथ लगाना वर्जित रहेगा। प्रशासन ने लोगों से आग्रह किया है कि अगर जरूरी है तभी मंदिरों में आएं। बिलासपुर जिले के मार्कंडेय मंदिर और रुकमणि कुंड में श्रद्धालुओं को स्नान की अनुमति नहीं होगी। बिलासपुर जिले में शक्तिपीठ मां श्री नयना देवी जी, बाबा बालक नाथ और बाबा नाहर सिंह मंदिर खोले जा रहे हैं।

मंदिरों में शादी, मुंडन और लंगर पर भी आगामी आदेशों तक प्रतिबंध रहेगा। मंदिरों में किसी भी तरह से भजन-कीर्तन सहित नहीं होगा। मंदिर परिसर में बैठने की इजाजत नहीं होगी। इसके साथ मंदिरों में प्रसाद सहित चरणामृत ले जाना मना है। मंदिरों में सोशल डिस्टेंसिंग सहित सारी व्यवस्थाओं को बनाए रखने के लिए पुलिस की अहम भूमिका रहेगी। पुलिस के कर्मचारी सोशल डिस्टेंसिंग सहित लोगों को कोविड के बारे में जागरूक करेंगे। सीसीटीवी से मंदिर परिसर की पूरी गतिविधियों पर नजर रखी जाएगी।


Next Story