Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Ram Vilas Paswan : पासवान का भाजपा के साथ अन्य सियासी दलों के मुकाबले कहीं गहरा नजर आता है नाता

Ram Vilas Paswan : केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान के वैसे तो सभी से राजनीतिक संबंध अच्छे रहे है। लेकिन राम विलास पासवान का भाजपा के साथ अन्य सियासी दलों के मुकाबले कहीं गहरा नाता नजर आता है। राम विलास पासवान नरेंद्र मोदी की दोनों सरकारों के कार्यकाल में मंत्री रहे हैं। वे अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में भी मंत्री रहे।

ram vilas paswan has a deeper connection with bjp than other political parties
X
राम विलास पासवान की फाइल फोटो

Ram Vilas Paswan : केंद्रीय मंत्री एवं राजनेता राम विलास पासवान देश की सियासत में 'मौसम वैज्ञानिक' के रूप में जाने जाते थे। अपनी इसी खूबी के बल पर उन्होंने देश के छह प्रधानमंत्रियों के साथ काम किया। वैसे तो उनके सभी सियासी दलों से राजनीतिक संबंध बेहतर रहे हैं। लेकिन राम विलास पासवान के भाजपा के साथ अन्य सियासी दलों के मुकाबले भाजपा के साथ रिश्ते ज्यादा बेहतर रहे हैं। राम विलास पासवान वर्तमान में केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में केंद्रीय खाद्य आपूर्ति और उपभोक्ता मामलों के मंत्री पद की जिम्मेदारी थी। इससे पहले 2014 में बनी नरेंद्र मोदी सरकार में भी वे मंत्री रहे हैं। राम विलास पासवान का 74 वर्ष की उम्र में गुरुवार की देर शाम दिल्ली एक अस्पताल में निधन हो गया। बताया जाता है कि वे काफी दिनों से बीमार चल रहे थे। राम विलास पासवान को हाल में ही दिल का ऑपरेशन भी हुआ था।

देश के राजनीतिक 'मौसम वैज्ञानिक' राम विलास पासवान ने अपने सियासी जीवनकाल में छह प्रधानमंत्रियों के मंत्रिमंडल में काम किया है। राम विलास पासवान पहली बार 1989 में विश्वनाथ प्रताप सिंह की सरकार में मंत्री बने। राम विलास पासवान दूसरी बार 1996 में एच डी देवगौड़ा की सरकार में मंत्री पद पर रहे। फिर उसके बाद राम विलास पासवान को इंद्र कुमार गुजराल सरकार में भी केंद्रीय रेल मंत्री की जिम्मेदारी सौंपी गई।

राम विलास पासवान वर्ष 1999 में अटल बिहारी वाजपेयी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार में संचार मंत्री थे। साल 2004 में राम विलास पासवान एनडीए से अलग हो गये व मनमोहन सिंह की अगुवाई में यूपीए सरकार में रसायन मंत्री रूप में कार्य किया।

राम विलास पासवान साल 2014 फिर एनडीए में पहुंच गये। उसके बाद नरेंद्र मोदी की सरकार में खाद्य आपूर्ति मंत्री बनाए गए। पासवान ने साल 2019 में हुए आम चुनाव में चुनाव नहीं लड़ा व वे बिहार से राज्यसभा पहुंचे व एक बार फिर से पीएम नरेंद्र मोदी की सरकार में खाद्य आपूर्ति और उपभोक्ता मामलों के मंत्री बन गये।

राम विलास पासवान के नाम हाजीपुर लोक सभा सीट से जीत का वर्ल्ड रिकार्ड में भी हुआ था दर्ज : नीतीश कुमार

बिहार के सीएम ने भी राम विलास पासवान के निधन पर प्रेस विज्ञपती जारी कर दुख जाहिर किया है। नीतीश कुमार ने कहा कि उनके निधन से उन्हें व्यक्तिगत दुख पहुंचा है। साथ ही उन्होंने पासवान के निधन को अपूरणीय क्षति करार दिया है। सीएम नीतीश कुमार ने अपने शोक संदेश में लिखा कि रामविलास पासवान भारतीय राजनीति के बड़े हस्ताक्षर थे। वे प्रखर वक्ता, लोकप्रिय राजनेता, कुशल प्रशासक, मजबूत संगठनकर्ता और बेहद मिलनसार व्यक्तित्व के धनी थे। वहीं सीएम नीतीश कुमार ने बताया कि राम विलास पासवान पहली बार 1969 में बिहार विधानसभा के सदस्य निर्वाचित हुये थे। 1977 में राम विलास पासवान पहली बार हाजीपुर से लोकसभा के लिए चुने गये थे। वहीं राम विलास पासवान की यह जीत वर्ल्ड रिकार्ड में भी दर्ज हुई थी। नीतीश कुमार ने राम विलास पासवान के निधन पर उनकी आत्मा की शांति के लिये भी ईश्वर से कामना की है।




Next Story