Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Atiq Ahmed: माफिया अतीक अहमद ने जेल में मनाई होली! अब प्रशासन ने सच बताकर FIR कराई दर्ज, जानिये अपराध से सियासत तक का सफर

माफिया अतीक अहमद की दो फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। कहा जा रहा है कि इस फोटो में अतीक अहमद साबरमती जेल में होली मनाता दिखाई दे रहा है। अब जेल प्रशासन ने सबूतों के साथ सच सामने रखा है।

Atiq Ahmed: माफिया अतीक अहमद ने जेल में मनाई होली! अब प्रशासन ने सच बताकर FIR कराई दर्ज, जानिये अपराध से सियासत तक का सफर
X

सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीर में अतीक अहमद जेल के भीतर पार्टी करता दिखाई दे रहा है। 

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के माफिया अतीक अहमद (Ateek Ahmed) की जेल में होली मनाती (Holi Celebration) तस्वीरें सोशल मीडिया (Social Media) पर तेजी से वायरल (Photo Viral) हो रही है। इन तस्वीरों में अतीक न केवल रंगों से सराबोर नजर आ रहा है, बल्कि पार्टी भी करता दिखाई दे रहा है। बताया जा रहा है कि यह दोनों तस्वीरें साबरमती जेल (Sabarmati Jail) की हैं। हालांकि जेल प्रशासन ने दोनों तस्वीरों को फेक बताते हुए एफआईआर दर्ज करा दी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अतीक अहमद की जेल में होली मनाने की तस्वीरों पर सोशल मीडिया यूजर्स भी भिन्न प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। पहली फोटो में अतीक अहमद एक कुर्सी पर बैठा है और माथे पर टीका व रंग लगा है। दूसरी फोटो में वह कई लोगों के साथ बैठकर पार्टी करता दिखाई दे रहा है।

इन दोनों तस्वीरों के सोशल मीडिया पर वायरल होते ही जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया। जेल प्रशासन ने जांच के बाद पूरी स्थिति स्पष्ट की है। जेल प्रशासन का कहना है कि अतीक अहमद की दोनों फोटो जो वायरल हो रही है, वो बेहद पुरानी है। फोटो में पीछे का बैकग्राउंड भी जो नजर आ रहा है, वो साबरमती जेल की नहीं है। जेल प्रशासन का कहना है कि गुजरात के राणिप पुलिस थाने में अनजान लोगों के खिलाफ फोटो वायरल करने के आरोप में एफआईआर दर्ज कराई है।

जानिये क्यों है खतरनाक अतीक अहमद

अतीक अहमद के पिता फिरोज इलाहाबाद स्टेशन पर तांगा चलाते थे। उसने हाई स्कूल में फेल होने के बाद पढ़ाई छोड़ दी। उसने जल्द अमीर बनने की चाह में उसने 1979 में इलाहाबाद में हत्‍या करके 17 साल की उम्र में जुर्म की दुनिया में कदम रखा। इसके बाद सिलसिलेवार कई वारदातें कीं। 1989 से उसने राजनीति जॉइन कर ली और 2004 तक छह बार चुनाव जीता। उसने पहला चुनाव निर्दलीय जीता और बाद में सपा में शामिल हो गया। 2014 में उसे हार मिली। इसके बाद 2018 के लोकसभा उपचुनाव में भी अतीक अहमद हार गया। साल 2005 में उसका नाम बीएसपी विधायक राजू पाल की हत्‍या में आया था। अभी तक वह साबरमती की सेंट्रल जेल में बंद है।

और पढ़ें
Next Story