Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बौद्धिक दिव्यांगता की जांच के लिए खुलेगा हस्तक्षेप केंद्र

राज्य सरकार की पांचवी गवर्निंग बॉडी की बैठक में बौद्धिक दिव्यांगता की जांच करने के लिए हस्तक्षेप केंद्र खोलने का निर्णय लिया गया है।

बौद्धिक दिव्यांगता की जांच के लिए खुलेगा हस्तक्षेप केंद्र
X

उपायुक्त कैप्टन मनोज कुमार

हरिभूमि न्यूज :रोहतक

जिले में जल्द ही राज्य पुनर्वास, प्रशिक्षण एवं शोध संस्थान (सिरतार) में बौद्धिक दिव्यांगता की जांच परीक्षण हेतु हस्तक्षेप केंद्र खोला जाएगा। इसमें 5 से 6 वर्ष के बच्चों की जांच की जाएगी।राज्य सरकार की पांचवी गवर्निंग बॉडी की बैठक में बौद्धिक दिव्यांगता की जांच करने के लिए हस्तक्षेप केंद्र खोलने का निर्णय लिया गया है। जिले में सरकार के इस प्रकार के सभी फैसलों को जल्द से जल्द लागू किया जाएगा।

उपायुक्त कैप्टन मनोज कुमार ने कहा कि ऐसे हस्तक्षेप केंद्र में 5 से 6 वर्ष आयु के बौद्धिक दिव्यांग बच्चों की जांच की जाएगी। इस जांच के आधार पर ही ऐसे बच्चों को उपचार देने में मदद मिलेगी। सिरतार परिसर में संवेदी एकीकरण इकाई (एसआईयू) भी स्थापित करने की स्वीकृति प्रदान की गई है। इस इकाई को स्थापित करने का मकसद यही है कि दिव्यांग बच्चों की सभी ज्ञानेंद्रियों का अधिक से अधिक उपयोग हो सके।

बच्चों को निशुल्क मिलेगी शिक्षा : संस्थान में आने वाले सभी बौद्धिक दिव्यांग बच्चों की शिक्षा अब निशुल्क कर दी गई है। पहले केवल बीपीएल व अनुसूचित जाति से संबंध रखने वाले परिवारों के बच्चों को ही निशुल्क शिक्षा दी जाती थी। अन्य श्रेणी के बच्चों से पंजीकरण शुल्क, मासिक शुल्क व हॉस्टल फीस ली जाती थी। लेकिन अब सभी के लिए इसे निशुल्क कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि संस्थान में 150 बच्चों को शिक्षा देने की व्यवस्था की गई है। संस्थान में जेबीटी, बीएड, पीजीटी, आरपी सहित अन्य पाठ्यक्रमों की विशेष शिक्षा देने का प्रावधान है।

और पढ़ें
Next Story