Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

त्योहारी सीजन में कारोबारियों की किरकिरी : प्रॉपर्टी टैक्स न देने पर नप ने दो फैक्टरी और एक गोदाम किए सील

इससे पहले भी नप की ओर से टैक्स की रिकवरी के लिए कई व्यवसायिक प्रतष्ठिानों पर सील लगा दी गई है। हालांकि बाद में कारोबारियों की ओर से अधिकारियों को भुगतान के चेक जारी कर दिए गए। इसके बाद सील हटाने की कार्रवाई की गई।

त्योहारी सीजन में कारोबारियों की किरकिरी : प्रॉपर्टी टैक्स न देने पर नप ने दो फैक्टरी और एक गोदाम किए सील
X

प्रोपर्टी टैक्स का भुगतान न करने पर व्यवसायिक प्रतष्ठिानों को सील करते नप अधिकारी

हरिभूमि न्यूज. अंबाला

त्योहारी सीजन में नगर परिषद की कार्रवाई कारोबारियों के लिए बड़ी सिरदर्द बन गई है। खासकर वे कारोबारी इस कार्रवाई से बेहद परेशान हैं जोकि अभी तक प्रोपर्टी टैक्स का भुगतान नहीं कर पाए हैं। ऐसे ही तीन कारोबारियों के खिलाफ वीरवार को नप की ओर से कार्रवाई की गई। टैक्स का भुगतान न करने पर इन कारोबारियों के प्रतष्ठिानों को बंद कर दिया गया। इनमें दो फैक्टरी व एक गोदाम शामिल है। इससे पहले भी नप की ओर से टैक्स की रिकवरी के लिए कई व्यवसायिक प्रतष्ठिानों पर सील लगा दी गई है। हालांकि बाद में कारोबारियों की ओर से अधिकारियों को भुगतान के चेक जारी कर दिए गए। इसके बाद सील हटाने की कार्रवाई की गई।

कड़े विरोध के बावजूद हुई सीलिंग

वीरवार को नगर परिषद की ओर से अंबाला छावनी स्थित दो फैक्ट्रियों व एक गोदाम को सील करने की कार्रवाई की गई। इससे पहले सचिव राजेश कुमार की अगुवाई में नप की टीम पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंची थी। तीनों व्यवसायिक प्रतष्ठिानों के मालिकों से 11.39 लाख रुपये की रिकवरी होनी थी। लगातार नोटिस के बावजूद मालिकों की ओर से प्रोपर्टी टैक्स के भुगतान में दिलचस्पी नहीं दिखाई गई। हैरत की बात है कि नप की ओर से मालिकों को प्रोपर्टी सील करने का नोटिस भी दिया गया था। फिर भी वे सचेत नहीं हुए। कार्रवाई के दौरान मालिक विरोध पर उतर आए। उन्होंने प्रोपर्टी टैक्स को पूरी तरह नायायज करार देते हुए भुगतान से मना कार्रवाई कर दिया। इसके बाद तीनों प्रतष्ठिानों को सील करने की हुई। कार्रवाई रोकने के हर संभव प्रयास किए गए। पुलिस ने विरोध को भी दबा दिया।

फिर भुगतान के बाद हटाई सील

नगर परिषद के अधिकारियों ने जब दोनों फैक्ट्रियों के साथ गोदाम को सील कर दिया। इसके बाद मालिक भुगतान पर सहमत हो गए। इसके लिए मौके पर ही मालिकों ने चेक से पूरे टैक्स का भुगतान कर दिया। तब कार्रवाई टीम ने सचिव राजेश कुमार के आदेश पर तीनों प्रतष्ठिानों से सील को हटा दिया। देर शाम तक यह कार्रवाई चलती रही। सील हटाने के बाद ही तीनों प्रतष्ठिानों में फिर से व्यवसायिक गतिविधियां शुरू हो गई।

आम्रपाली रिजॉर्ट से भी हटाई सील

नगर निगम की ओर से शहर के आम्रपाली रिजॉर्ट को भी प्रोपर्टी टैक्स की अदायगी न होने से सील कर दिया था। टैक्स की रिकवरी पर रोक के बावजूद निगम अधिकारियों ने यह कार्रवाई की थी। मगर टैक्स के भुगतान पर रोक होने की वजह से अब आम्रपाली रिजॉर्ट पर लगी सील को हटा दिया गया है। रिजॉर्ट मालिक रोहित जैन ने बताया कि वे नियमित तौर पर प्रोपर्टी टैक्स का भुगतान कर रहे हैं। पर कुछ पेडिंग टैक्स में गड़बड़ी होने की वजह से उन्होंने निगम की कार्रवाई को अदालत में चुनौती दी थी। इसी वजह से अदालत ने निगम की कार्रवाई पर रोक लगा दी थी। इसके बावजूद उनका रिजॉर्ट सील कर दिया गया। अब अदालत ने इस कार्रवाई पर निगम को फटकार लगाई है। वे खुद अदालत की अवमानना करने पर निगम अधिकारियों के खिलाफ याचिका दायर करने जा रहे हैं।

Next Story