Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रोहतक शहर में 200 से ज्यादा पीजी, नगर निगम के पास एक का भी रजिस्ट्रेशन नही‍ं

नए आदेशों के तहत अब पुलिस पीजी में चेकिंग अभियान चला कर लोगों की वेरिफिकेशन करेगी। पुलिस का मानना है कि कुछ पीजी में शरारती तत्व भी अपनी पहचान छिपा कर रह रहे हैं। इसलिए पीजी में रहने वाले लोगों की जांच पड़ताल जरूरी है।

नगर निगम रोहतक ने पाॅलीथिन बेचने वालों पर की कार्यवाही, काटे चालान
X

नगर निगम रोहतक कार्यालय।  

विजय अहलावत : रोहतक

शहर में पीजी की संख्या दिन ब दिन बढ़ती ही जा रही है। नगर निगम के नियमों को ताक पर रखकर 200 से अधिक पीजी चलाए जा रहे हैं। ज्यादातर पीजी रिहायशी ईलाकों में ही हैं। हैरानी की बात यह है कि निगम के रिकार्ड में एक भी पीजी का रजिस्ट्रेशन दर्ज नहीं है। न ही पीजी में रहने वाले लोगों की पुलिस वेरिफिकेशन करवाई जा रही है। ऐसे में निगम पीजी पर कार्रवाई करना तो दूर केवल कमर्शियल हाउस टैक्स लेकर अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रहा है। नए आदेशों के तहत अब पुलिस पीजी में चेकिंग अभियान चला कर लोगों की वेरिफिकेशन करेगी। पुलिस का मानना है कि कुछ पीजी में शरारती तत्व भी अपनी पहचान छिपा कर रह रहे हैं। इसलिए पीजी में रहने वाले लोगों की जांच पड़ताल जरूरी है। पुलिस जैसे होटल, धर्मशाला में रहने वाले लोगों का रिकार्ड लेती है, ठीक वैसे ही पीजी में रहने वाले लोगों का रिकार्ड पुलिस के पास जमा करवाना होगा। इसके अलावा स्वतंत्रता दिवस पर अलर्ट को देखते हुए पुलिस चेकिंग अभियान चलाएगी। इस दौरान पीजी संचालकों के पास पूरा रिकार्ड नहीं मिला तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

वैसे तो शहर के करीब हर क्षेत्र में पीजी खुले हुए हैं, लेकिन मेडिकल मोड़, डी पार्क, मॉडल टाउन, सेक्टर, दिल्ली रोड, सोनीपत रोड, लाढ़ौत रोड पर पीजी की संख्या बहुत ज्यादा है। ज्यादातर कोचिंग सेंटरों, मदवि और कॉलेजों के आसपास पीजी बनाए गए हैं। कई जगह पीजी तंग गलियों में हैं, जहां अनहोनी होने पर फायर ब्रिगेड की गाड़ी तक प्रवेश नहीं कर सकती। इसके अलावा कई जगह पीजी के बाहर बोर्ड तक नहीं लगाए गए हैं।

कोरोना के चलते कई माह से खाली पड़े पीजी

कोरोना संक्रमण के चलते कई माह से कॉलेज बंद पड़े हैं। इस वजह से अन्य जिलों से पढ़ने आने वाले छात्र अब नहीं आ रहे हैं, जिसकी वजह से अधिकतर पीजी में लोगों की संख्या कम हो गई है। इसके अलावा पीजी में खेलों में प्रेक्टिस करने वाले युवा, निजी और सरकारी विभागों में नौकरी करने वाले लोग रह रहे हैं।

जल्द शुरू करेंगे अभियान

स्वतंत्रता दिवस को लेकर जल्द ही सुरक्षा कारणों के चलते चेकिंग अभियान शुरू किया जाएगा। इस दौरान होटलाें के साथ साथ पीजी में रहने वाले लोगों का रिकार्ड चेक किया जाएगा। लोगों की वेरिफिकेशन करवाई जाएगी। जल्द ही बड़े स्तर पर कार्रवाई की जाएगी। -गोरखपाल राणा, डीएसपी हेडक्वाटर

पीजी संचालकों को नोटिस दिए : नगर निगम में एक भी पीजी का रजिस्ट्रेेशन नहीं है। पहले कई बार पीजी संचालकों को नोटिस दिए जा चुके हैं। अब उनसे केवल व्यवसायिक क्षेत्र का गृहकर जमा करवाया जा रहा है। जो गृहकर जमा नहीं करवाते उन पर कार्रवाई की जाती है। जांच करेंगे।- जगदीश चंद्र, जेडटीओ, नगर निगम

Next Story