Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

तीन साल से बंद पड़े परिवहन बैरियर से ग्रिल, खिड़की-बल्ली तक निकालकर ले गए चोर

अगले हफ्ते से परिवहन बैरियर पर ट्रकों की होगी जांच

तीन साल से बंद पड़े परिवहन बैरियर से ग्रिल, खिड़की-बल्ली तक निकालकर ले गए चोर
X

रायपुर. छत्तीगसढ़ में परिवहन बैरियर के बंद होने के बाद अधिकांश चेकपाेस्ट से ग्रिल, बांस-बल्ली से लेकर खिड़की तक चोर उखाड़कर ले गए। अब बैरियर को शुरू करने के लिए दोबारा मरम्मत कराने बड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है। चेकपोस्ट की रिपेयरिंग के साथ ही सड़कों पर बैरियर भी लगाने का काम तेजी से चल रहा है।

संभावना है, अगले हफ्ते तक रिपेयरिंग का काम पूरा होने के साथ ही बैरियर पर ओवरलोडिंग की जांच शुरू हो जाएगी। इसके लिए बैरियर प्रभारी की नियुक्ति के आदेश का इंतजार है। गौरतलब है, शासन ने 4 जुलाई से सभी 16 बैरियर को चालू करने का आदेश दिया। इसके बाद परिवहन विभाग ने बैरियर की रिपेयरिंग शुरू कर दी थी, लेकिन हालत इतने जर्जर थे, उन्हें व्यवस्थित करने में पखवाड़ेभर का समय लग गया।

बेरियर की इतनी बदतर थी हालत

हरिभूमि ने राज्यभर के जशपुर के लवाकेरा, कबीरधाम के चिल्फी, कोरिया के घुटरीटोला और महासमुंद के खम्हारपाली बेरियर की स्थिति की पड़ताल की। यहां चेकपोस्ट भवनों से खिड़की, बांस, बल्ली, लोहे के ग्रिल और दरवाजा तक उखड़ा मिला। यही नहीं, चेकपोस्ट लिखे टीन के फ्रेम को भी चोरों ने नहीं बख्शा। भवन पर लगे टीन-शेड तक गायब थे। अब यहां टीन-शेड से खिड़की तक परिवहन विभाग खरीदकर लगा रहा है। इन बैरियर में लगभग 80 फीसदी काम पूरा हो गया है यानी बैरियर पर परिवहन अफसर बैठकर जांच कर सकें, इस लायक बना दिया गया है।

बैरियर से ये होगा फायदा

जानकारी के मुताबिक इन 16 बेरियर से परिवहन विभाग को 2016-17 में पांच लाख 70 हजार वाहनों से 87 करोड़ का राजस्व समन शुल्क मिला था। सालभर राज्य सरकार को 100 करोड़ का राजस्व मिलता था। बैरियर के शुरू होने से आवरलोडिंग समाप्त होगी। साथ ही दूसरे राज्य से छग में टैक्स चोरी कर चलने वाले ट्रकों पर शिकंजा कसेगा।

यहां शुरू हुई ट्रकों की जांच

अफसरों के मुताबिक पाटेकोहरा, छोटा मानपुर और मानपुर (जिला-राजनांदगांव), चिल्फी (जिला-कबीरधाम), खम्हारपाली और बागबाहरा (जिला-महासमुंद), केंवची (जिला-बिलासपुर), धनवार और रामानुगंज (जिला-बलरामपुर), घुटरीटोला और चांटी (जिला-कोरिया), रेंगारपाली (जिला-रायगढ़) शंख और उप जांच चौकी लावाकेरा (जिला-जशपुर), कोंटा (जिला-सुकमा) और धनपूंजी (जिला-बस्तर) की जांच चौकियों को 4 जुलाई से शुरू कर दिया गया है।

जल्द शुरू होगी जांच

जहां जरूरत है, वहां बैरियर की रिपेयरिंग का काम चल रहा है। स्टॉफ की पदस्थापना होने के बाद जांच शुरू की जाएगी।

- वेदव्रत सिरमौर, ज्वाइंट कमिश्नर, ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट

Next Story