Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नवंबर से कक्षाएं लेने आदेश, विश्वविद्यालय दुविधा में- सिलेबस ही तय नहीं ताे क्या छोड़ें और क्या पढ़ाएं?

उच्च शिक्षा विभाग ने प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों को निर्देश दे दिया है कि वे नवंबर से छात्रों की ऑनलाइन कक्षाएं प्रारंभ करें। इसके साथ ही विभाग द्वारा यह घोषणा भी कर दी गई कि वर्तमान सत्र में सिलेबस में 30 से 40 प्रतिशत की कटौती की जाएगी।

नवंबर से कक्षाएं लेने आदेश, विश्वविद्यालय दुविधा में- सिलेबस ही तय नहीं ताे क्या छोड़ें और क्या पढ़ाएं?
X

रायपुर. उच्च शिक्षा विभाग ने प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों को निर्देश दे दिया है कि वे नवंबर से छात्रों की ऑनलाइन कक्षाएं प्रारंभ करें। इसके साथ ही विभाग द्वारा यह घोषणा भी कर दी गई कि वर्तमान सत्र में सिलेबस में 30 से 40 प्रतिशत की कटौती की जाएगी।

कोरोना संक्रमण के कारण प्रभावित हुई पढ़ाई को देखते हुए यह कटौती की गई है। उच्च शिक्षा विभाग द्वारा सिलेबस में कटौती किए जाने की घोषणा तो कर दी गई है, लेकिन अब तक नया सिलेबस जारी नहीं किया गया है। मौजूदा परिस्थितियों में विश्वविद्यालय और महाविद्यालय दुविधा में पड़ गए हैं।

महाविद्यालय प्रबंधन का कहना है कि अब तक उच्च शिक्षा विभाग द्वारा यह ही तय नहीं किया गया है कि कोर्स में कौन से अध्याय रहेंगे और कौन से नहीं? न ही इस संदर्भ में कोई आदेश जारी किया गया है और न ही किसी भी तरह की सूचना ही उन्हें दी गई है। महाविद्यालयों के पास वक्त कम है। ऐसे में कौन से पाठ छात्रों को पढ़ाए जाएं और कौन से नहीं, इसके लिए सिलेबस का इंतजार हो रहा है।

26 को देनी थी रिपोर्ट

उच्च शिक्षा विभाग द्वारा स्नातक स्तर पर पाठ्यक्रम में कटौती किए जाने के लिए समिति बनाई गई थी। सभी विषयों के लिए पृथक-पृथक समितियां बनाई गई थीं। इन्हें कोर्स में कटौती कर 26 अक्टूबर तक अपनी रिपोर्ट उच्च शिक्षा विभाग को सौंपनी थी। इस समिति में कई सेवानिवृत्त हो चुके प्राध्यापकों को भी शामिल किया गया था। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस पर भी कुछ प्राध्यापकों द्वारा आपत्ति जताई गई थी। स्नातक स्तर पर प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों में पाठ्यक्रम एक समान ही होता है, इसलिए इसके लिए समिति गठित कर दी गई। समिति द्वारा क्या रिपोर्ट सौंपी गई है तथा कौन से अंश को हटाने की प्रस्ताव रखा गया है, यह भी उच्च शिक्षा विभाग ने स्पष्ट नहीं किया है, न सिर्फ रविवि बल्कि प्रदेश के सभी विवि इस समस्या का सामना कर रहे हैं। उनके मुताबिक पर्याप्त वक्त पहले ही उच्च शिक्षा विभाग को नया सिलेबस जारी कर दिया जाना चाहिए था, ताकि शिक्षक अध्यापन संबंधित अपनी तैयारियां कर सकते।

इंतजार कर रहे

अब तक नया सिलेबस जारी नहीं किया गया है। हम इंतजार कर रहे हैं। अभी एक-दो दिन का वक्त है। तब तक शायद जारी हो जाए।

- सुपर्ण सेन गुप्ता, मीडिया प्रभारी, रविवि

Next Story