Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हाथियों से हारा वन अमला : ग्रामीणों से की अपील, जिधर हाथी घूम रहे उधर महुआ बीनने भी ना जाएं... सीएम बघेल ने भी की बचने की अपील

हाथियों के उत्पात से इन दिनों पूरा छत्तीसगढ़ थर्रा उठा है। वन विभाग ने तो धमतरी जिले के ग्रामीणों से यहां तक अपील की है कि वे जंगली क्षेत्र जहां हाथियों के दल घूम रहे हैं वहां ना जाएं। इसके साथ ही मंगलवार को सूरजपुर रवाना होने से पहले सीएम भूपेश बघेल ने कहा- गर्मी के दिनों में भीषण उमस रहती है और महुआ खाने के बाद हाथी जंगल की ओर जाते हैं, जिससे लोगों को यह ध्यान रखना चाहिए कि जिधर हाथी हैं उधर न जाएं। पढ़िए पूरी खबर...

हाथियों से हारा वन अमला : ग्रामीणों से की अपील, जिधर हाथी घूम रहे उधर महुआ बीनने भी ना जाएं... सीएम बघेल ने भी की बचने की अपील
X

रायपुर। छत्तीसगढ़ में गर्मी का सीजन शुरू होते ही महुए के फूलों से जंगल महकने लगते हैं। इनकी महक भालुओं और हाथियों को भी खूब भाता है। वनवासी सुबह-सुबह ही महुए का फूल एकत्र करने जंगलों की ओर जाते हैं, जहां उनका सामना इन फूलों की सुगंध से आकर्षित होकर पहुंचने वाले भालुओं और हाथियों से हाता है। और यहीं से शुरू होता है जंगली जानवरों के साथ मानव का द्वंद। इन दिनों ऐसा ही द्वंद छत्तीसगढ़ के ज्यादातर वनांचल में देखने और सुनने को मिल रहा है। अकेले धमतरी जिले में ही सप्ताहभर में हाथियों के हमले से पाँच जानें गई हैं।

वन विभाग के मुताबिक धमतरी वनमण्डल के वन परिक्षेत्र धमतरी, नगरी और दुगली में हाथियों के तीन दल विचरण कर रहे हैं। हाथियों के इन दलों ने बीते एक हफ्ते में 5 लोगों की जान ली है। इसके मद्देनजर वनमण्डलाधिकारी मयंक पाण्डेय ने उक्त तहसील के ग्रामीणों से अपील की है कि वे हाथियों के विचरण क्षेत्र नगरी, दुगली, टाईगर रिजर्व के वनक्षेत्र और धमतरी वन परिक्षेत्र के डूबान क्षेत्र मोंगरागहन, हरफर, उरपुटी में सुबह के समय अकेले महुआ अथवा लकड़ी बीनने नहीं जाएं, ताकि जानमाल की हानि से बचा जा सके। उन्होंने साथ ही रात के समय ग्रामीणों को अपने घर के आसपास लकड़ी जलाकर रखने की अपील की है, ताकि हाथी नहीं आने पाएं। पूरे प्रदेश स्तर के वन कर्मचारी हड़ताल पर हैं, ऐसी स्थिति में वनों की सुरक्षा वन प्रबंधन समिति के सदस्यों और फायर वाचर चौकीदारों द्वारा की जा रही है। वन अमला के हड़ताल में जाने से हाथी मित्र द्वारा लगातार हाथी प्रभावित क्षेत्रों में ग्रामीणों को जंगल नहीं जाने के लिए आग्रह किया जा रहा है और गांवों में मुनादी भी कराई जा रही है।

बीते 3 दिनों में हाथियों के इस दल ने टाईगर रिजर्व वनक्षेत्र के ग्रामों में विचरण के दौरान तीन व्यक्तियों को कुचलकर मार डाला, वहीं आज सुबह दुगली परिक्षेत्र में पांच साल की एक मासूम बच्ची को और नगरी परिक्षेत्र में एक महिला को हाथियों ने मार डाला। वर्तमान में चंदा हाथी का दल, जिसमें 23 हाथी हैं, वह धमतरी वन परिक्षेत्र और कांकेर वनमंडल के नरहरपुर वनक्षेत्र की सीमा में विचरण कर रहा है।

और पढ़ें
Next Story