Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Ramvilas Paswan Died: दलित समुदाय का प्रतिनिधित्व करते थे राम विलास पासवान, जानें बिहार चुनाव पर उनकी मौत से क्या असर पड़ सकता है

Ramvilas Paswan Died: रामविलास पासवान दलित समाज का प्रतिनिधित्व करते थे। उन्होंने दलितों व अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों के हित के लिए काफी काम किया।

Ramvilas Paswan Died: दलित समुदाय का प्रतिनिधित्व करते थे राम विलास पासवान, जानें बिहार चुनाव पर उनकी मौत से क्या असर पड़ सकता है
X
Ramvilas Paswan Died: दलित समुदाय का प्रतिनिधित्व करते थे राम विलास पासवान, जानें बिहार चुनाव पर उनकी मौत से क्या असर पड़ सकता है

Ramvilas Paswan Died: रामविलास पासवान की मृत्यु से पूरा देश दुखित है। चिराग पासवान के द्वारा उनके मौत की खबर दिए जाने के बाद नरेंद्र मोदी समेत कई नेताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। रामविलास पासवान अपने जीवनकाल में 8 बार सांसद रह चुके हैं। कुछ ही दिनों पहले उनकी हार्ट सर्जरी हुई थी और वो वेंटिलेटर पर रखे गए थे। इसकी जानकारी देते हुए रामविलास पासवान ने खुद कहा था कि डॉक्टर्स अपनी जिम्मेदारी काफी अच्छी तरह से निभा रहे हैं। आज उनकी मौत के बाद पूरे देश में मातम जैसा माहौल उत्पन्न हो गया। वहीं जानकारों का मानना है कि उनकी मौत से बिहार चुनाव में काफी असर पड़ सकता है। आगामी बिहार चुनाव को लेकर सियासी हलचल पहले से ही तेज है। इसमें चिराग पासवान के रवैये से कई नेताओं के मन में रोष भी उत्पन्न हो गया है। हालांकि उनके पिता रामविलास पासवान की मौत से बिहार चुनाव में कुछ बदलाव होने के कयास लगाए जा रहे हैं।

दलितों का प्रतिनिधित्व करते थे रामविलास पासवान

रामविलास पासवान दलित समाज का प्रतिनिधित्व करते थे। उन्होंने दलितों व अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों के हित के लिए काफी काम किया। इसके साथ ही सत्ता के साथ भी हमेंशा उनका अलग ही जुड़ाव रहा था। कहा जाता है कि लालू प्रसाद यादव उन्हें मौसम वैज्ञानिक बुलाया करते थे, क्योंकि उन्होंने 6 प्रधानमंत्रियों के साथ काम किया था। बता दें कि रामविलास कई बार कांग्रेस की सत्ता का विरोध करते देखे गए थे। लेकिन फिर उन्होंने कांग्रेस पार्टी में मंत्री का कार्यभार भी संभाला। इसके बाद वो लगातार बीजेपी को टारगेट करते रहे। फिर उन्होंने बीजेपी ज्वाइन कर ली, तो कांग्रेस के खिलाफ बोलने लगे।

चिराग पासवान से खुश नहीं है बीजेपी

चिराग पासवान इन दिनों लोजपा और बीजेपी की गठबंधन की बातें जोर-शोर से करते रहे हैं। उनका कहना है कि नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री पद से हटाकर वे किसी बीजेपी उम्मीदवार को बिहार के मुख्यमंत्री पद पर देखना चाहते हैं। हालांकि उनकी ये रणनीति जानकारों को साफ नजर आती रही है। जानकारों को मानना है कि वे बीजेपी के साथ गठबंधन करके अपना उल्लू सीधा करने के पक्ष में हैं। लेकिन इसी दौरान बीजेपी ने उनके अरमानों पर सख्त आघात किया। बिहार बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ने बयान जारी कर कहा कि एनडीए में उसी को जगह मिल सकती है जो नीतीश कुमार को नेता स्वीकार करेगा।

जानकारों का मानना है कि रामविलास पासवान की मौत से एक बार फिर सियासी गर्मी बढ़ सकती है। राजनीति में सिम्पथी वोट (Sympathy Vote) का हमेंशा से प्रचलन रहा है। ऐसे में चिराग पासवान को जनता का प्यार मिल सकता है। हालांकि ये पूरा प्रकरण चिराग पासवान के पक्ष में किस हद तक जाएगा, ये तो वक्त ही बताएगा।

Next Story