Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

विरोध का अनोखा तरीका : NH-71 हाईवे पर बने गड्ढों में कांग्रेस विधायक ने लगा दिए पौधे

कांग्रेस विधायक चिरंजीव राव ने आरोप लगाए कि केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह भी गड्ढों को भरने के आदेश दे चुके हैं, परंतु दो माह बाद भी स्थिति में कोई बदलाव नहीं हुआ है। जिससे स्पष्ट होता है कि अधिकारियों पर सरकार विशेषकर स्थानीय नेताओं की कोई पकड़ नहीं है।

विरोध का अनोखा तरीका : NH-71 हाईवे पर बने गड्ढों में कांग्रेस विधायक ने लगा दिए पौधे
X

रेवाड़ी-दिल्ली मार्ग पर आरओबी के पास राष्ट्रीय राजमार्ग पर बने गड्ढे में पेड़ लगाकर विरोध जताते विधायक।

हरिभूमि न्यूज : रेवाड़ी

कांग्रेस विधायक चिरंजीव राव ने केंद्रीय मंत्री व डीसी के आदेशों के बावजूद दिल्ली मार्ग पर आरओबी के नीचे एनएच-71 पर बने गड्ढों को ठीक नहीं करने पर सोमवार को कार्यकर्ताओं के साथ सड़क पर बने गड्ढों में पेड़ लगाकर पौधारोपण कर विरोध का अनोखा तरीका अपनाया। उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह भी गड्ढों को भरने के आदेश दे चुके हैं, परंतु दो माह बाद भी स्थिति में कोई बदलाव नहीं हुआ है। जिससे स्पष्ट होता है कि अधिकारियों पर सरकार विशेषकर स्थानीय नेताओं की कोई पकड़ नहीं है।

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार दक्षिणी हरियाणा के साथ विकास में भेदभाव करती आ रही है। जिसका ताजा प्रमाण रेवाड़ी में कॉलेज के लिए आंबटिक पांच एकड़ से अधिक जमीन वापस हुडा को लौटाकर सरकार ने टुकड़ों में बिक्री के लिए दे दिया है। उन्होंने कहा कि सड़क में बने गड्ढों से अक्सर हादसे होते रहते हैं तथा एक युवक तो अपनी जान भी गंवा चुका है। बावजूद इसके सरकार व प्रशासन की नींद नहीं टूट रही है। जिस कारण उन्हें सरकार व प्रशासन को नींद से जगाने के लिए विरोध का यह तरीका अपनाना पड़ा। उन्होंने कहा कि रेवाड़ी ब्वायज कॉलेज भवन के निर्माण में देरी तथा अब जमीन वापस लौटाने के बावजूद केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह के साथ डॉ. बनवारी व लक्ष्मण सिंह यादव भी चुप्पी साधे हुए हैं। जबकि यहां बनने वाले कॉलेज रेवाड़ी की बजाय सभी क्षेत्रों के विद्यार्थियों के लिए ओपन होगा। पाली गोठड़ा सैनिक स्कूल, रीजनल सेंटर कृष्ण नगर का निर्माण भी वर्षों से अटका हुआ है। बिनौला में बनने वाले रक्षा विश्वविद्यालय का कोई अत्ता-पत्ता ही नहीं है। 9 सरकारी कॉलेजों में से केवल दो मेें प्राचार्य हैं तथा प्राध्यापक व आधारभूत ढांचा कहीं भी नहीं है।

Next Story