Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शिक्षकों की बेमियादी हड़ताल से स्कूलों में लगा ताला, शिक्षक फेडरेशन ने किया विस का घेराव, खेलकूद कर घर लौटे बच्चे

शिक्षा विभाग द्वारा प्राथमिक स्कूलों में हाई और हायर सेकंडरी स्कूल के शिक्षकों द्वारा अध्यापन व्यवस्था कराने का दावा किया जा रहा है, लेकिन सोमवार को जिले के प्राथमिक स्कूलों के बच्चे दिनभर खेल मैदान में खेलते दिखाई दिए। बड़ी कक्षा के शिक्षकों ने केवल उन्हें एक साथ बिठाने एवं शांत रखने में ही अपना फोकस किया। पढ़िए पूरी ख़बर...

शिक्षकों की बेमियादी हड़ताल से स्कूलों में लगा ताला, शिक्षक फेडरेशन ने किया विस का घेराव, खेलकूद कर घर लौटे बच्चे
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

राजनांदगांव: शिक्षकों की हड़ताल के कारण जिले में पढ़ाई चौपट हो गई है। सोमवार को कई स्कूलों में ताला लग गया। कई स्कूलों में खेलकूद में ही दिन बीता। इस बार 2 अगस्त को देरी से नया शिक्षा सत्र शुरू हुआ। इसके बाद अवकाश और अन्य कारणों से पढ़ाई ठप रही। अब शिक्षकों की बेमियादी हड़ताल के कारण अध्यापन व्यवस्था चौपट हो गई है।

कोरोना संक्रमण काल के बाद जैसे-तैसे अध्यापन व्यवस्था दोबारा पटरी पर लौटी थी, लेकिन इस साल तिमाही परीक्षा भी नहीं हुई और न ही अब तक अर्द्धवार्षिक परीक्षा की समय सारिणी जारी की जा सकी है। जबकि फरवरी-मार्च माह से लोकल कक्षाओं की वार्षिक और कक्षा 10वीं एवं 12वीं की बाेर्ड परीक्षा शुरू हो जाएगी। पढ़ाई चौपट होने से विद्यार्थी और पालकों का तनाव बढ़ा हुआ है। िशक्षा विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जिले में कुल 1840 प्राथमिक शालाएं संचालित है, जिसमें शिक्षकों की संख्या लगभग 4712 बताई जा रही है। स्कूलों में पांच माह के बाद आधा कोर्स भी पूरा नहीं हो सका। जिससे चिंता बढ़ी हुई है।

अवकाश में फिर होगा नुकसान

शिक्षा विभाग ने स्कूलों को पूरी क्षमता के साथ लगाने निर्देश दिया था। दिसंबर में छैमाही परीक्षा का आयोजन होता रहा है, लेकिन सरकारी स्कूलों में अब तक समय सारिणी जारी नहीं की गई। इस माह के अंत में पांच दिनों का शीतकालीन अवकाश दिया जाएगा। दशहरा, दिवाली के बाद शीतकालीन अवकाश के दौरान फिर एक बार पढ़ाई प्रभावित होगी।

राजधानी में डटा शिक्षक फेडरेशन

छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन के जिला अध्यक्ष शंकर साहू ने बताया कि वेतन विसंगति को दूर करने की मांग को लेकर 11 एवं 12 दिसंबर को कलेक्टोरेट के सामने दो दिवसीय धरना प्रदर्शन किया गया। सोमवार को जिले के कुल 5 हजार में 4100 सहायक शिक्षक विधानसभा का घेराव करने राजधानी पहुंचे हैं। जिला अध्यक्ष ने बताया कि लंबे समय से वेतन विसंगति दूर करने की मांग जारी है, लेकिन शासन ने ध्यान नहीं दिया। सोमवार को बड़ी संख्या में शिक्षक तैयारी से राजधानी पहुंचे हैं। अब मांग पूरी होने तक राजधानी में हड़ताल जारी रहेगी। सभी शिक्षक अपने वाहन से पहुंचे और वहीं भोजन करने के साथ वहीं सोने की तैयारी में हैं।

Next Story