Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

और मजबूत होगी सुनारियां जेल की सुरक्षा व्यवस्था, यहीं पर सजा काट रहे हैं राम रहीम और कई खूंखार बंदी

जेल की सुरक्षा को और मजबूत किया जाएगा और चारों तरफ की निगरानी बढ़ाई जाएगी। बैरकों में बंद खूंखार बंदियों को एक दूसरी बैरकों में शिफ्ट किया जाएगा। मुख्य गेट समेत सड़क पर आसपास जवानों की संख्या बढ़ाई जाएगी।

और मजबूत होगी सुनारियां जेल की सुरक्षा व्यवस्था, यहीं पर सजा काट रहे हैं   राम रहीम और कई खूंखार बंदी
X

जिला कारागार रोहतक।

हरिभूमि न्यूज :रोहतक

सुनारियां स्थित जिला कारागार की सुरक्षा को लेकर सोमवार को अधिकारियों की बैठक हुई। रोहतक रेंज के एडीजीपी, जेल आईजी, एसपी समेत अन्य अधिकारी जेल में पहुंचे। अधिकारियों ने जेल अफसरों के साथ मुलाकात के बाद जेल परिसर का दौरा किया। उन्होंने सुनिश्चित किया कि क्या जेल में कहीं सुरक्षा को लेकर बदलाव की जरूरत है। पुलिस सूत्रों की माने तो इस दौरान अधिकारियों ने कई फैसले लिए। बैठक में राम रहीम समेत बंद अन्य चर्चित आरोपितों की सुरक्षा को लेकर भी चर्चा हुई। जेल के अधिकारियों ने बताया कि उनकी तरफ से सुरक्षा में कोई कसर नहीं छोड़ी गई है। हर जगह मजबूत सुरक्षा व्यवस्था है। हर जगह पुलिस का पहरा है।

सूत्रों का कहना है कि अधिकारियों ने कहा है कि जेल की सुरक्षा को और मजबूत किया जाएगा। जेल के चारों तरफ की निगरानी बढ़ाई जाएगी। जेल के अंदर बैरकों में बंद खूंखार बंदियों को एक दूसरी बैरकों में शिफ्ट किया जाएगा। मुख्य गेट समेत सड़क पर आसपास जवानों की संख्या बढ़ाई जाएगी। इसके अलावा कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए हैं। अधिकारियों ने बैठक में लिए निर्णयों को लेकर गाेपनियता बनाए रखी। गौरतलब है कि जिला कारागार में हत्या के मामले में उम्र कैद काट रह सिरसा डेरा प्रमुख गुरमीम रामरहीम भी बंद हैं। जिसकी सुरक्षा को लेकर बार बार जेल मंत्री और अन्य अधिकारी निरीक्षण करते रहते हैं। हाल ही में रामरहीम की सुरक्षा में छूट देने पर डीएसपी के खिलाफ कार्रवाई की गई थी।

जेल में जान को खतरा बताया

फरवरी माह में जॉट कॉलेज अखाड़े में हुए खूनी खेल का आरोपित सुखवेंद्र कोच रोहतक जेल में बंद है। उसने हाल ही में एएसजे कोर्ट में एप्लीकेशन दायर कर अपनी जान को खतरा बताया था। वह जेल बदलवाने की मांग कर रहा है। उसका कहना है कि रोहतक और झज्जर में उसकी जान को काफी खतरा है। यहां आसपास के गांवों के बदमाश बंद हैं, जो उसकी जान ले सकते हैं। कोर्ट ने जेल अधिकारियों से सुरक्षा पर जवाब मांगा है। उसकी अर्जी पर सोमवार को सुनवाई नहीं हो सकी और अब 14 सितम्बर को कोर्ट में फैसला होना है।

अभिषेक को भी जान का खतरा

विजय नगर में हुए खूनी खेल के मामले में पहलवान प्रदीप मलिक का बेटा अभिषेक भी जेल में बंद है। हत्याकांड में प्रदीप मलिक, उसकी पत्नी, बेटी और सास की मौत हो गई थी। अभिषेक से मुलाकात के बाद उसके वकील मोहित वर्मा ने आरोप लगाया कि जेल में उसे जान का खतरा है। जिसके लिए वह कोर्ट में अर्जी लगाएंगे। हालांकि जेल प्रशासन ने उसे स्पेशल सैल में रखा हुआ है, जहां गार्द तैनात की गई है।

Next Story