Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जेवर एयरपोर्ट के निर्माण की टाटा को मिली बड़ी जिम्मेदारी, 2024 तक विमान भरने लगेंगे उड़ान

राष्ट्रीय राजधानी से सटे उत्तर प्रदेश के जेवर में जल्द ही देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट (Jewar Airport) बनकर तैयार होने वाला हैं। इस हवाई अड्डे को बनने के बाद यहां से अंतरराष्ट्रीय विमान उड़ान भरेंगे। इस निर्माण कार्य को अब और गति देने के लिए इसका ठेका टाटा प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड (Tata Projects Pvt Ltd) को दे दिया गया है।

जेवर एयरपोर्ट के निर्माण की टाटा को मिली बड़ी जिम्मेदारी, 2024 तक विमान भरने लगेंगे उड़ान
X

राष्ट्रीय राजधानी से सटे उत्तर प्रदेश के जेवर में जल्द ही देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट (Jewar Airport) बनकर तैयार होने वाला हैं। इस हवाई अड्डे को बनने के बाद यहां से अंतरराष्ट्रीय विमान उड़ान भरेंगे। इस निर्माण कार्य को अब और गति देने के लिए इसका ठेका टाटा प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड (Tata Projects Pvt Ltd) को दे दिया गया है।

यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड ( Yamuna International Airport Pvt Ltd) ने शुक्रवार को एक बयान में कहा, इस अनुबंध के तहत, टाटा प्रोजेक्ट्स (TATA Projects) हवाई अड्डे पर टर्मिनल, रनवे, एयरसाइड इंफ्रास्ट्रक्चर, सड़कों, उपयोगिताओं और अन्य सहायक भवनों का निर्माण करेगी। बयान में कहा गया हैं कि एलएंडटी और शापूरजी पालनजी जैसी बड़ी कंपनियां भी इस ठेके को हासिल करने की दौड़ में शामिल थीं।


टाटा प्रोजेक्ट्स को मिला सर्वोच्च अंक

लेकिन कंपनी को पिछले तीन में से बड़े बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के डिजाइन, खरीद और निर्माण में अपने अनुभव के आधार पर टाटा प्रोजेक्ट्स (TATA Projects) को सर्वोच्च अंक दिया गया और उसे ठेका मिल गया। यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड (YIAPL) के सीईओ क्रिस्टोफ श्नेलमैन (CEO Christoph Schnelmann) ने कहा कि वह बेहद खुश हैं।

2024 तक एयरपोर्ट बनकर होगा तैयार

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट ( Noida International Airport) से जुड़ा काम टाटा प्रोजेक्ट को दिया गया है। उन्होंने बताया कि टाटा हवाई अड्डे के लिए इंजीनियरिंग निर्माण (Engineering Construction) संबंधी गतिविधियों और हवाई अड्डे के निर्माण के लिए आवश्यक सामग्री की आपूर्ति के लिए काम करेगा। क्रिस्टोफ के अनुसार एयरपोर्ट बनाने का प्रोजेक्ट धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा है और उन्हें उम्मीद है कि 2024 तक एयरपोर्ट बनकर तैयार हो जाएगा।

पहले चरण में 5,700 करोड़ का होगा निवेश

कुल 1,334 हेक्टेयर में फैले ग्रीनफील्ड सुविधा के पहले चरण ने 5,700 करोड़ रुपये के निवेश के साथ सिंगल रनवे संचालन शुरू किया। तब तक पैसेंजर, रनवे और एयरपोर्ट के लिए जो भी जरूरी इंफ्रास्ट्रक्चर होगा, तैयार हो जाएगा। सालाना 1.2 करोड़ यात्रियों की क्षमता वाला यह हवाईअड्डा देश का सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा (International Airport) बन जाएगा।

और पढ़ें
Next Story