Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना के बीच बिहार विधानसभा चुनाव समय से कराने की तैयारी चल रही: सीईओ

बिहार में विधानसभा चुनाव तय समय पर कराने के लिए कोरोना महामारी के बीच चुनाव आयोग अपनी तैयारी में जुटा है। बिहार के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) एचआर श्रीनिवासन ने बताया कि 2015 में चुनाव की घोषणा नौ सितम्बर को की गई थी, अभी तो जुलाई है, इसीलिए हमारे पास अभी तैयारी के लिए समय है।

preparations are being made to conduct bihar assembly elections in time between corona ceo
X
प्रतीकात्मक तस्वीर

बिहार एकमात्र ऐसा राज्य है जहां इस वर्ष महामारी के बीच चुनाव होगा। हालांकि, इससे पहले बिहार में आठ सीटों के लिए बिहार विधान परिषद के स्नातक और शिक्षकों के निर्वाचन क्षेत्रों के लिए चुनाव होने हैं। अभी तक उन पर भी कोई निर्णय नहीं लिया गया है। आठ सीटें मई में खाली हो गई थीं।

सीईओ ने स्पष्ट रूप से कहा कि इस समय कार्यक्रम के अनुसार चुनाव कराने के लिए सभी तैयारियां चल रही हैं। उन्होंने कहा कि यह चुनाव आयोग है जो कुछ कर सकता है करेगा।

सीईओ ने कहा कि पिछले महीने महामारी की स्थिति में चुनाव के दौरान प्रचार करने के तरीके को लेकर सभी राजनीतिक दलों के साथ बैठक आयोजित की गई थी, जिसमें सामाजिक दूरी की मांग की गई थी। सीईओ ने कहा कि राजनीतिक दलों के साथ बैठक के दौरान जो भी सुझाव आए हैं, वह चुनाव आयोग को बताए गए हैं।

मुख्य चुनाव आयुक्त (सीईसी) सुनील अरोड़ा ने पहले ही कहा था कि चुनाव से संबंधित सभी निर्देशों और प्रक्रियाओं को आपदा प्रबंधन दिशानिर्देशों को ध्यान में रखते हुए महामारी के दौरान सुचारू कामकाज सुनिश्चित करने के लिए उपयुक्त रूप से संशोधित किया जाएगा। सीओ ने कहा कि बिहार चुनाव में अभी तक कोई योजना नहीं है।

सीईओ ने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन और वीपैट सभी जिलों में पहुंच गए हैं व रिटर्निंग अधिकारियों (आरओ) का प्रशिक्षण गुरुवार से शुरू हो जाएगा। मास्टर ट्रेनरों का राज्य स्तरीय प्रशिक्षण बुधवार को संपन्न हुआ। हम सब कुछ तय कार्यक्रम के अनुसार कर रहे हैं।

इस पर, श्रीनिवासन ने कहा कि चुनाव में देरी या स्थगित करने के लिए कुछ लोगों के सुझाव मिले थे पर किसी राजनीतिक दल से नहीं मिला। श्रीनिवासन ने कहा कि हमने लोगों से प्राप्त सुझावों को चुनाव आयोग को भेज दिया है।

हालांकि बिहार में विधानसभा चुनाव इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले हैं, लेकिन मुख्य राजनीतिक दलों ने पहले ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और अन्य उपलब्ध तकनीकी साधनों के माध्यम से जनता तक पहुंचने के लिए अपने आउटरीच कार्यक्रम कर रहे हैं।

Next Story