Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

CM नीतीश समेत बिहार के 11 नेताओं ने PM मोदी से की मुलाकात, जातीय जनगणना पर रख रहे अपना पक्ष

जातीय जनगणना कराए जाने की मांग को लेकर बिहार में बीते काफी दिनों से सियासत गर्म है। वहीं सीएम नीतीश कुमार समेत 11 नेताओं का प्रतिनिधिमंडल आज दिल्‍ली में मुद्दे को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी से मिलने पहुंचा है।

11 leaders of Bihar including CM Nitish Kumar met PM Narendra Modi regarding caste census
X

सीएम नीतीश कुमार

बिहार (Bihar) में बीते काफी दिनों से जातीय जनगणना (caste census) कराए जाने की मांग को लेकर सियासत गर्म है। वहीं सोमवार को जातीय जनगणना के मसले को लेकर बिहार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Chief Minister Nitish Kumar), नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव (Leader of Opposition Tejashwi Yadav) समेत बिहार के कुल 11 नेताओं का प्रतिनिधिमंडल (Delegation of 11 leaders of Bihar) दिल्‍ली में पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से मिलने के लिए पहुंचा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिल रहे प्रतिनिधिमंडल में अलग-अलग पार्टियों के नेता शामिल हैं। जो प्रधानमंत्री से मिलकर जाति आधारित जनगणना के मसले पर अपना पक्ष रख रहे हैं। बिहार के प्रतिनिधिमंडल पीएम नरेंद्र मोदी की यह मुलाकात साउथ ब्लॉक स्थित प्रधानमंत्री कार्यालय में हो रही है।

सीएम नीतीश कुमार के साथ पीएम नरेंद्र मोदी से मिलने के लिए गए प्रतिनिधिमंडल में 10 पार्टियों के नेता शामिल हैं। इसमें मुख्यमंत्री नीतीश के साथ-साथ, राजद नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव, जदयू के विजय कुमार चौधरी, भाजपा से जनक राम, कांग्रेस से अजीत शर्मा, भाकपा माले के महबूब आलम, एआईएमआईएम अख्‍तरुल ईमान, हिन्दूस्तान अमाम मोर्चा से जीतन राम मांझी, वीआईपी से मुकेश सहनी, भाकपा के सूर्यकांत पासवान और माकपा के अजय कुमार शामिल हैं।

अगले वर्ष 7 राज्यों में होने वाले चुनावों होने वाले हैं। जिसको देखते हुए जातीय जनगणना का मुद्दा काफी अहम माना जा रहा है। इससे पूर्व में ही सीएम नीतीश कुमार स्पषट कर चुके हैं कि यह बातचीत सफल रहती तो बहुत अच्छा। यदि परिणाम दूसरे आए तो बिहार में जाति आधारित जनगणना को कराए जाने पर विचार किया जाएगा। सीएम नीतीश कुमार बिहार ही नहीं, बल्कि जातीय जनगणना को पूरे देश के लिए महत्वपूर्ण करार दे चुके हैं। साथ वह इसे कराए जाने के लिए लगातार मांग उठा रहे हैं। सीएम नीतीश की यह भी मांग है कि कम से कम एक बार तो जाति आधारित जनगणना करा ली जानी चाहिए। दूसरी ओर बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भी लगातार जातीय जनगणना कराए जाने की मांग को लगातार उठा रहे हैं।

Next Story