Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजस्थान विधानसभा में संघ कार्यकर्ता पर हमले की घटना को लेकर जमकर हंगामा, कार्यवाही दो बार करनी पड़ी स्थगित

राजस्थान के कोटा में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के एक कार्यकर्ता पर हमले की घटना को विपक्षी दल भाजपा के विधायकों ने बृहस्पतिवार को विधानसभा में हंगामा किया जिससे सदन की कार्यवाही दो बार स्थगित करनी पड़ी।

राजस्थान विधानसभा सत्र नौ सितंबर से होगा शुरू, कई अहम मुद्दों पर सरकार को घेरने की तैयार में विपक्ष
X

राजस्थान विधानसभा

जयपुर। राजस्थान के कोटा में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के एक कार्यकर्ता पर हमले की घटना को विपक्षी दल भाजपा के विधायकों ने बृहस्पतिवार को विधानसभा में हंगामा किया जिससे सदन की कार्यवाही दो बार स्थगित करनी पड़ी। शून्यकाल के दौरान भारतीय जनता पार्टी के विधायक वासुदेव देवनानी एवं मदन दिलावर ने इस मुद्दे को उठाना चाहा लेकिन विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने इसकी अनुमति नहीं दी। इस पर उपनेता प्रतिपक्ष व भाजपा के अन्य विधायक घटना का विरोध जताते हुए आसन के सामने आ गए। आसन की व्यवस्था को नहीं मानते हुए वे वहां पर नारे लगाते रहे।

राजस्थान संशोधन विधेयक 2020 को वापस लिया गया

अध्यक्ष ने विधानसभा की नियमित कार्रवाई जारी रखने को कहा जिसके तहत पंजीकरण राजस्थान संशोधन विधेयक 2020 को वापस लिया गया। अध्यक्ष ने कहा कि उन्होंने नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया को कानून व्यवस्था पर बोलने की अनुमति दी थी और वे इस अवसर का उपयोग इस मुद्दा विशेष को उठाने के लिए कर सकते थे। उपनेता प्रतिपक्ष राठौड़ व भाजपा के अन्य विधायकों द्वारा किए जा रहे हंगामे की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा,'यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि आपमें यह साबित करने की होड़ है कि सबसे अधिक निष्ठावान कौन है। भाजपा विधायकों ने इस मामले में एक आरोपी की संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल के साथ कथित फोटो सदन में दिखाते हुए सरकार से जवाब देने को कहा।

आरएसएस कार्यकर्ता पर हुई थी फायरिंग

कोटा में मंगलवार रात आरएसएस के कार्यकर्ता पर तीन लोगों ने गोली चलाई। आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि अगर आरोप लगाये जाने हैं तो कुछ नियम हैं जिनके तहत ऐसा किया जा सकता है लेकिन वह सदन में हंगामा करने की अनुमति नहीं देंगे। भाजपा विधायक आसन के सामने धरने पर बैठ गए इस पर अध्यक्ष ने लगभग साढे 12 बजे सदन की कार्यवाही आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी। सदन जब दोबारा बैठा तो भाजपा विधायकों ने धरना जारी रखा और सदन की कार्रवाई एक बार फिर आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी गयी। बाद में कार्यवाही शुरू होने पर अध्यक्ष ने कहा कि वह सदन के नेता एवं प्रदेश के मुख्यमंत्री को इस मामले से अवगत करवाएंगे और धरना समाप्त करने की अपील की। नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि विपक्ष सदन की कार्यवाही बाधित नहीं करना चाहता। उन्होंने कहा कि स्पीकर इस मामले पर मुख्यमंत्री से जवाब का समय तय करें। कटारिया ने अपनी पार्टी के विधायकों को सीटों पर लौटने को कहा और उन्होंने धरना खत्म किया। कांग्रेस विधायक महेंद्रजीत सिंह मालवीय ने राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पेश किया जिस पर बहस शुरू हुई। अभिभाषण प्रस्ताव पर सरकार का जवाब सोमवार को होगा।

Next Story