Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एचआरटीसी के 599 कर्मचारियों को दिवाली का तोहफा, तीन साल पूरे होने पर मिला लाभ

कोरोना महामारी के दौर में प्रदेश सरकार ने हिमाचल पथ परिवहन निगम के 559 कर्मचारियों को दिवाली से पहले रेगुलर का तोहफा दिया है। निगम के 426 कंडक्टर, 87 वर्कशॉप स्टाफ, 34 जेटीओ और 12 ड्राइवर रेगुलर हुए हैं।

एचआरटीसी के 599 कर्मचारियों को दिवाली का तोहफा, तीन साल पूरे होने पर मिला लाभ
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

कोरोना महामारी के दौर में प्रदेश सरकार ने हिमाचल पथ परिवहन निगम के 559 कर्मचारियों को दिवाली से पहले रेगुलर का तोहफा दिया है। निगम के 426 कंडक्टर, 87 वर्कशॉप स्टाफ, 34 जेटीओ और 12 ड्राइवर रेगुलर हुए हैं। निगम ने इसकी नोटिफिकेशन दिवाली से दो दिन पहले जारी की है। निगम कर्मचारियों को जैसे ही रेगुलर होने की सूचना मिली, तो उन्होंने स्टाफ को मिठाई बांटकर खुशी मनाई।

हिमाचल पथ परिवहन निगम ने तीन साल पूरा करने वाले कर्मचारियों को रेगुलर किया गया है। निगम के कंडक्टर, ड्राइवर, वर्कशॉप स्टाफ और जेटीओ को रेगुलर कर पे-स्केल तुरंत प्रभाव से जारी करने के निर्देश दिए हैं। इनमें 426 कंडक्टर, 12 ड्राइवर, वर्कशॉप स्टाफ में 15 जूनियर टेक्नीशियन (कारपेंटर), तीन जूनियर टेक्नीशियन (इलेक्ट्रिकल), 46 जूनियर टेक्नीशियन (एमएम), एक जूनियर टेक्नीशियन (पेंटर), एक जूनियर टेक्नीशियन (टर्नर), तीन जूनियर टेक्नीशियन (वेल्डर), दो वर्कशॉप हेल्पर, 16 वर्कशॉप हेल्पर (टायरमैन) और जेटीओ स्टाफ में 22 ऑटोमोबाइल/ मकेनिकल इंजीनियर, पांच इलेक्ट्रोनिक्स/कमनीकेशन, सात सीविल इंजीनियर रेगुलर हुए हैं। निगम कर्मचारियों को जैसे ही रेगुलर होने की सूचना मिली, तो उन्होंने स्टाफ को मिठाई बांटकर खुशी मनाई।

निगम के वही कर्मचारी रेगुलर हुए हैं, जिनका तीन वर्ष का कार्यकाल पूरी तरह साफ-सुथरा रहा है। जिन कर्मचारियों का रिकार्ड खराब रहा है, उन्हें रेगुलर होने के लिए और इंतजार करना होगा। रेगुलर हुए कर्मचारियों को अब बढ़ा हुआ वेतन मिलेगा, जिससे उन्हें जरूर राहत मिलेगी। हिमाचल पथ परिवहन निगम के मंडलीय प्रबंधक अवतार सिंह ने कहा कि तीन वर्ष का कार्यकाल पूरा करने वाले 559 कर्मचारियों को दिवाली से दो दिन पूर्व ही रेगुलर किया गया है। इनमें कंडक्टर, ड्राइवर, वर्कशॉप स्टाफ और जेटीओ शामिल हैं। रेगुलर कर्मचारियों को बढ़ा हुआ वेतन तुरंत प्रभाव से जारी करने के निर्देश दिए गए हैं।

Next Story