Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नगर निकायों के करप्शन पर कड़ी नजर : फरीदाबाद और गुरुग्राम के बाद कई निकायों में होगा स्पेशल ऑडिट

शिकायतों और लोगों को होने वाली परेशानी को देखते हुए हरियाणा के शहरी निकाय मंत्री ने साफ कर दिया है कि आने वाले दिनों में वे गुरुग्राम नगर निगम जैसी कार्रवाई कुछ अन्य शहरों में कर सकते हैं।

Anil Vij
X

 मंत्री अनिल विज

योगेंद्र शर्मा : चंडीगढ़

नगर निगमों (Municipal Corporations) में कामकाज को लटकाने और भ्रष्टाचार संबंधी शिकायतों को लेकर जहां प्रदेश के शहरी निकाय मंत्री अनिल विज ने जहां गुरुग्राम और फरीदाबाद निगमों में स्पेशल आडिट के आदेश दिए हुए हैं। वहीं प्रदेश के विभिन्न हिस्सों से जिस तरह शिकायतें मिल रही हैं, उनको देखते हुए बाकी भी कईं निकायों में स्पेशल आडिट कराने की तैयारी की जा रही है। गुरुग्राम नगर निगम में मंत्री विज द्वारा छापेमारी की सूचना के बाद बड़ी संख्या अफसरों और मंत्री के पास बाकी निगमों, निकायों की शिकायतें पहुंचने लगी है।

शिकायतों और लोगों को होने वाली परेशानी को देखते हुए हरियाणा के शहरी निकाय मंत्री ने साफ कर दिया है कि आने वाले दिनों में वे गुरुग्राम नगर निगम जैसी कार्रवाई कुछ अन्य शहरों में कर सकते हैं। विज ने जहां लगातार शिकायतें मिलने की पुष्टि की वहीं दूसरी ओर उन्होंने कहा कि लोगों को परेशान करने वाले दागियों को बख्शा नहीं जाएगा। गुरुग्राम और फरीदाबाद ही नहीं बल्कि बाकी भी कई निगमों में स्पेशल ऑडिट कराने की तैयारी है। कई नगर निगमों, नगर परिषदों व पालिकाओं में लंबे समय से जमे कर्मियों के बारे में लगातार शिकायतें मिल रहीं हैं।

यहां पर याद दिला दें कि हरियाणा के गृह एवं शहरी निकाय मंत्री अनिल विज ने इसी साल मार्च में समीक्षा बैठक के दौरान स्पेशल आडिट के आदेश दिए थे। पारदर्शिता, करप्शन मुक्त निकायों और तेजी के साथ में जनता के कामकाज पर फोकस रखने का संदेश दे चुके विज का कहना है कि स्पेशल आडिट और जांच पड़ताल के दौरान जो भी दोषी मिलेगा उसको बख्शा नहीं जाएगा।

आम जनता से सीधे मिल रहा फीडबैक

गृहमंत्री अनिल विज के हाथों में (अर्बन लोकल बाडी) विभाग की कमान भी है। सूबे के सभी नगर निगमों औऱ नगर परिषदों, पालिकाओं से आम लोगों का सीधा काम पड़ता है। इनमें व्याप्त भ्रष्टाचार की शिकायतें और फीडबैक भी विभाग के मंत्री के पास लगातार पहुंच रहा है। गुरुग्राम नगर निगम में करप्शन और मनमानी की शिकायत कम नहीं हैं। जिसके बाद में विज ने खुद ही गत दिवस गुरुग्राम नगर निगम में छापेमारी कर दी। खास बात यहां पर यह है कि निगमों, नगर परिषदों और नगर पालिका आदि में व्याप्त भ्रष्टाचार की शिकायत लगातार विज के पास पहुंच रही हैं। गुरुग्राम और फरीदाबाद जैसे निगमों में सरकार की ओर से दिल खोलकर पैसा भेजा गया लेकिन दोनों निगमों के दामन पर करप्शन के बड़े दाग लगे हुए हैं। जिसके बाद में कामकाज का स्पेशल आडिट करने का फरमान जारी कर दिया गया है। राज्य के सात महकमों की जिम्मेदारी संभाल रहे विज के निशाने पर गृह के बाद स्थानीय निकाय है।

लंबित मामलों को लेकर मंत्री के पास फीडबैक

प्रदेश मुख्यालय लंबित फाइलें और यहां पर आए दिन आने जाने वालों तक का फीडबैक पहुंच रहा है। मुख्यालय में महीनों से अटकीं काफी फाइलें और कामकाज को लेकर भी मंत्री नाराजगी जाहिर कर चुके हैं। इसके अलावा जिलेवार निगमों, परिषदों, पालिकाओं के हालात को लेकर आए रहे फीडबैक पर चिंतन मंथन करने में जुटे हुए है। मंत्री के पास में मोबाइल फोन से लेकर ईमेल एड्रेस और मैनुअल शिकायतों के मिलने का सिलसिला जारी है। इस तरह से आने वाले दिनों में कुछ अन्य निकायों, निगमों पर शिकंजा कसे जाने की तैयारी है।

Next Story