Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Coronavirus: दिल्ली में आज 4473 नये मामले सामने आये, संक्रमण दर 7.15 फीसदी

दिल्ली में प्रति 10 लाख लोगों पर 3 हजार टेस्ट किये जा रहे है। जबकि राजधानी में अभी तक 23 लाख टेस्ट कोरोना वायरस किये जा चुके है। कोविड 19 के मामले बढ़ने से दिल्ली में तेजी से कंटेनमेंट जोन की संख्या 1637 बढ़ रही है।

Coronavirus: दिल्ली में 4473 नये मामले सामने आये, संक्रमण दर 7.15 फीसदी
X
कोरोना वायरस का असर

दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे है। आज दिल्ली में कुछ दिनों में सबसे ज्यादा मामले सामने आये है। बीते 24 घंटे में दिल्ली में 4473 कोरोना संक्रमण के नये मामले सामने आये है। जबकि कोरोना संक्रमण के कारण 33 मरीजों की मौत हो गई है। वहीं 3313 मरीज इस बीमारी से ठीक होकर अपने घर चले गये है। इसी के साथ ही दिल्ली में संक्रमण दर 7.15 फीसदी पहुंच गई है और मृत्यु दर 0.7 फीसदी है। कोविड अस्पतालों की बात करे तो 8 हजार के करीब बेड खाली है।

वहीं इसमें 7 हजार के लगभग बेड पर मरीजों का इलाज हो रहा है। कोविड सेंटरों और हेल्थ सेंटरों में 3500 से ऊपर बेड उपलब्ध है। 2500 मरीजों का इन सेंटरों में इलाज चल रहा है। दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 17324 मरीज होम आइसोलेशन में रहकर अपना इलाज करवा रहे है। दिल्ली में मिले नये संक्रमण को मिलाकर अब कुल संक्रमितों की संख्या 2 लाख 30 हजार से ज्यादा हो गई है।

इस महामरी को अब तक 1 लाख 94 हजार से ज्यादा मरीजों ने मात दे दी है। जबकि कोविड19 की वजह से 4839 लोगों की मौत हो गई है। दिल्ली में इस समय 30 हजार से अधिक सक्रिय मामले है। दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 60 हजार से अधिक लोगों की कोरोना जांच की गई है। जिसमें आरटीपीसीआर से 11 हजार के करीब कोरोना की जांच की गई वहीं सबसे ज्यादा रैपिड एंटीजन टेस्ट से कोरोना जांच की गई।

दिल्ली में प्रति 10 लाख लोगों पर 3 हजार टेस्ट किये जा रहे है। जबकि राजधानी में अभी तक 23 लाख टेस्ट कोरोना वायरस किये जा चुके है। कोविड 19 के मामले बढ़ने से दिल्ली में तेजी से कंटेनमेंट जोन की संख्या 1637 बढ़ रही है।

अचानक ऑक्सीजन सिलेंडर की बढ़ी मांग

दिल्ली-एनसीआर में कोरोना के मामले बढ़ने से ऑक्सीजन की मांग में अचानक बढ़ोतरी हो गई है। दिल्ली में मामले लगातार बढ़ रहे है जिसे अस्पतालों में ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत पहले से ज्यादा हो गई है। वहीं हाल गाजियाबाद की अस्पतालों की है। यहां एक सिलेंडर दो दिन मरीजों के काम आता था वहीं अब एक दिन में ही खत्म हो जा रहे है। सिलेंडर की कीमतों में भी वृद्धि हो गई है। दिल्ली-एनसीआर में मामले बढ़ने से लोगों को ऑक्सीजन सिलेंडर का इंतजाम करने में बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।


Next Story
Top