Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

झगड़े से त्रस्त दुर्गा कॉलेज की प्राचार्य ने दिया इस्तीफा, प्राध्यापकों और प्रबंधन के मध्य विवाद

सूत्र बताते हैं कि उनकी कार्यशैली से छात्र संतुष्ट थे, किंतु प्रबंधन और प्राध्यापकों के मध्य चल रहे विवाद के कारण उन्हें कार्य करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। दुर्गा कॉलेज में सालभर के भीतर दूसरे प्राचार्य का इस्तीफा। इसके पूर्व डागा महाविद्यालय में भी इस तरह का विवाद सामने आया था। इसके पश्चात रविवि ने यहां प्रशासक नियुक्त कर दिया था। पढ़िए पूरी ख़बर...

झगड़े से त्रस्त दुर्गा कॉलेज की प्राचार्य ने दिया इस्तीफा, प्राध्यापकों और प्रबंधन के मध्य विवाद
X

रायपुर: दुर्गा कॉलेज की प्राचार्य डाॅ. मधु कामरा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। विश्वसनीय सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार, उन्होंने यह इस्तीफा कॉलेज प्रबंधन और प्राध्यापकों के मध्य जारी विवाद से परेशान होकर दिया है। हालांकि उनका इस्तीफा अब तक मंजूर नहीं किया गया है। दुर्गा कॉलेज में सालभर के भीतर यह दूसरे प्राचार्य का इस्तीफा है। पूर्व प्राचार्य आरके तिवारी भी कुछ माह पहले अपने पद से इस्तीफा दे चुके हैं। उनके पश्चात डॉ. कामरा को प्राचार्य पद की जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

अंदरूनी सूत्र बताते हैं कि उनकी कार्यशैली से छात्र संतुष्ट थे, किंतु प्रबंधन और प्राध्यापकों के मध्य चल रहे विवाद के कारण उन्हें कार्य करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। यह विवाद शिक्षकों की कमी, वेतन सहित कई मुद्दों को लेकर है। शिक्षकों का कहना है कि नई भर्ती नहीं होने के कारण उन्हें अत्यधिक कार्य करना पड़ रहा है। उनका वेतन भी नहीं बढ़ाया जा रहा है। इसके अलावा प्रबंधन के सदस्य अपने रिश्तेदारों की भी मनमानी तरीके से नियुक्ति करते हैं।

रविवि ने बुलाई थी बैठक

पं. रविशंकर शुक्ल विवि में भी इसकी शिकायत की जा चुकी है। शिक्षकों की भर्ती ना होने, अध्यापन संबंधित फैसले तय वक्त पर नहीं होने के कारण छात्रों की पढ़ाई भी प्रभावित हो रही है। मैनेजमेंट और प्राध्यापकों के मध्य विवाद को सुलझाने के लिए लगभग दो माह पहले रविवि द्वारा बैठक भी बुलाई गई थी। इसमें दोनों पक्षों को समझाइश दी गई थी। इसका भी कोई असर नहीं दिख रहा है। विश्वविद्यालय प्रशासन भी इस झगड़े से परेशान हो गया है। दुर्गा कॉलेज निजी महाविद्यालय है। लगभग सभी महत्वपूर्ण फैसले प्रबंधन द्वारा लिए जाते हैं। इसके पूर्व डागा महाविद्यालय में भी इस तरह का विवाद सामने आया था। इसके पश्चात रविवि ने यहां प्रशासक नियुक्त कर दिया था। विश्वविद्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि यदि यहां भी विवाद नहीं थमा तो डागा कॉलेज की तर्ज पर कड़ा रूख अपनाया जा सकता है।

दिया है इस्तीफा

महाविद्यालय प्राचार्य के पद से मेरे द्वारा इस्तीफा दे दिया गया है। - डॉ. मधु कामरा, प्राचार्य, दुर्गा महाविद्यालय

Next Story