Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पलटवार: सुशील मोदी बाेले - लालू लालटेन की रोशनी में सिर्फ देख सकते हैं 'ठेले पर बैठा डॉक्टर'

भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने बिहार के सुशासन पर सवाल उठाने के बाद कहा कि मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार के इलाज के लिए विशेष अस्पताल तैयार होने के साथ ही विभिन्न विकास कार्य हुए हैं। पर लालू को ठेले पर अस्पताल जाता डॉक्टर ही दिखाई दिया। वैसे भी लालटेन की रोशनी में कोई ज्यादा दूर तक देख भी कैसे सकता है?

reversal sushil modi said - lalu can only see doctor sitting on handcart in the light of lantern
X
सुशील मोदी

राजद प्रमुख लालू के ट्विटर हैंडल से गुरुवार को ठेले पर बैठकर अस्पताल जाते डॉक्टर की तस्वीर को शेयर करके नीतीश के सुशासन पर सवाल उठाया गया था। यह तस्वीर बीते मंगलवार की बताई जाती है। ठेले पर बैठे डॉक्टर सौपोल में नगर पंचायत बार्ड नं 12 के कोविड केयर सेंटर में तैनात बताए जाते हैं। वहीं कोविड केयर सेंटर के आस-पास घुटनों तक जल भराव हो गया है। इसकी वजह से डॉक्टर सहाब ठेले पर बैठकर अस्पताल जा रहे हैं।

सुशासन पर सवाल उठने के उप मुख्यमंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी ने गुरुवार की रात को ट्वीट कर राजद प्रमुख लालू यादव को बिहार में एनडीए सरकार द्वारा कराए गए विभिन्न विकास कार्य गिनवाए। सुशील मोदी ने बिहार में सुशासन के दावों को मजबूत करते हुए कहा कि मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार के इलाज के लिए 100 बेड का विशेष अस्पताल एक साल के भीतर तैयार हुआ। पटना एम्स में कोरोना की वैक्सीन तैयार करने के लिए परीक्षण शुरू हो गया। 194 दिनों में परीक्षण सफल होने की आशा की जा रही है।

सुशील मोदी ने राजद पर निशाना साधते हुए कहा कि लालू प्रसाद को स्वास्थ्य सेवा के प्रति उत्साह जगाने वाला यह विकास नहीं, केवल 'ठेले पर अस्पताल जाता डाक्टर' दिखता है। इसके बाद मोदी राजद पर तंज कसा कि लालटेन की रोशनी में कोई ज्यादा दूर तक देख भी कैसे सकता है?

कोरोना महामारी के बीच बिहार में विधानसभा चुनाव को लेकर सियासत हलचल देखी जा रही। हर सियासी दल सूबे की सत्ता पाने के लिए नए - नए हथकंडे भी अजमा रहा है। बिहार में भयानक होती कोरोना बीमारी के बीच सियासी दल सोशल मीडिया के बल पर जनता तक अपनी पकड़ बनाने में भी जुट गए हैं। साथ ही सोशल मीडिया के जरिये ही एक - दूसरों की कमियों को जनता के सामने ला रहे हैं। इसके अलावा अपनी पार्टी की नीतियों व किये गए कार्यों को भी सोशल मीडिया के माध्यम से ही लोगों के बीच पहुंचा रहे हैं।

Next Story