Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सरकारी अस्पताल में दाई और गार्ड कराती हैं डिलीवरी, डॉक्टर की गैर मौजूदगी में प्रसूता की हुई मौत

बिहार के बेतिया में स्थित जीएमसीएच से एक बड़ा लापरवाही का मामला सामने आया है। यहां डॉक्टर गायब रहती हैं। उनके एवज में प्रसव वार्ड में दाई व महिला गार्ड प्रसव कराती हैं। मामले का खुलासा उस वक्त हुआ जब एक प्रसूता की मौत यहां डॉक्टर की गैर मौजूदगी और इलाज के अभाव में हो गई।

negligence of Bihar health department Doctor remains missing in Bettiah GMCH and delivery ward midwife do delivery of maternity
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

बिहार (Bihar) में बेतिया में स्थित गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज अस्पताल (Government Medical College Hospital located in Bettiah) में बड़ी लापरवाही का मामला सामने आया है। मीडिया रिपोर्ट से सामने आया है कि जीएमसीएच (GMCH) से डॉक्टर गायब रहती हैं। उनकी जहग पर प्रसव वार्ड में दाई और महिला गार्ड डिलीवरी (delivery) कराती हैं। वहीं जीएमसीएच के प्रसव वार्ड की एक तस्वीर समाने आई है। जिसमें महिला डॉक्टर गायब हैं। साथ ही उनके बदले दाई, गार्ड व नर्स मिलकर डिलीवरी करा रही (Midwife, guard and nurse doing delivery together) हैं। तस्वीर सामने आने पर जीएमसीएच में हड़कंप मच गया है। मामले में जीएमसीएच उपाधीक्षक की ओर से जांच के आदेश दिए गए हैं। वायरल तस्वीर में एक प्रसूता को 4 से 5 महिलाएं घेरे हुए हैं। जिसमें एक महिला ऊंचे टेबल चढ़ी हुई है और प्रसूता का पेट दबा रही है। इसमें जीएनएम भी मौजूद नजर आ रही है। वैसे हरिभूमि इस वायरल तस्वीर की पुष्टि नहीं करता है।

कहा गया है कि डॉक्टर की अनुस्थिति में दाई, गार्ड और नर्स प्रसव करा रही हैं। वहीं अस्पताल उपाधीक्षक डॉ. श्रीकांत दुबे का कहना कि प्रवस वार्ड में दाई और महिला गार्ड द्वारा प्रसूता का प्रसव के लिए पेट दबाए जाने का मामला उनके संज्ञान में नहीं आया है। यदि यह हुआ है तो गलत है। ऐसा करने से पेट में किसी अंग को क्षति पहुंच सकती है। मामले की तफ्तीश की जाएगी। आरोप सही मिलने पर दोषी कर्मचारियों के खिलाफ एक्शन लिया जाएगा।

रेफर मरीज को भी देखने नहीं आतीं महिला डॉक्टर

आरोप है कि जीएमसीएच के प्रसव वार्ड में महिला डॉक्टर कभी-कभार ही आती हैं। यहां नर्स दाई और महिला गार्ड ही ज्यादातर डिलीवरी कराती हैं। सिकटा के मसवास निवासी ललिता देवी ने सिकटा पीएचसी में शनिवार को बेटी को जन्म दिया। हालत ज्यादा खराब होने पर डॉक्टरों ने महिला को जीएमसीएच रेफर कर दिया। प्रसूति वार्ड में ललिता देवी के पास उनकी मां बलथर की रहने वाली सुंदरपती देवी उपस्थित थी। दोपहर के दो बजे रहे थे। सुंदरपती का आरोप है कि 10 बजे वो लोग जीएमसीएच में पहुंच गए थे। लेकिन दोपहर के दो बजने तक कोई डॉक्टर मरीज को देखने के लिए नहीं पहुंचा। इसको लेकर गायनी विभाग इंचार्ज डॉ. सुधा भारती से संपर्क करने की कोशिश की गई। पर उनसे संपर्क नहीं हो सका।

डॉक्टर की गैर मौजूदगी में प्रसूता ने तोड़ दिया दम

डॉक्टर के ना रहने की वजह से मरीज ने दम तोड़ दिया। इस बार भी महिला डॉक्टर प्रसूती वार्ड में मौजूद नहीं थीं। महनागनी की प्रसूता अनिता देवी 35 वर्षीय वार्ड में भर्ती थी। पर इलाज की कमी की वजह से शनिवार दोपहर को उन्होंने दम तोड़ दिया। वहीं उपाधीक्षक श्रीकांत दुबे का कहना है कि ज्यादा अधिक खून बह जाने की वजह से प्रसूता की मौत होने की सूचना मिली है।

Next Story