Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना के बढ़ते मामलों ने बढ़ाई अशोक गहलोत की चिंता, बोले- कोविड नियंत्रण के लिए सभी संसाधनों और उपायों को दुरुस्त करें

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने राज्य में कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के आसन्न खतरे पर गंभीर चिंता व्यक्त करते हुए सभी स्वास्थ्य एवं प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे अपने पुराने अनुभव के आधार पर महामारी पर नियंत्रण के लिए उपलब्ध संसाधनों को उपयोग में लें।

कोरोना को हराना है तो केन्द्र और राज्य सरकारें मिलकर करें इस दूसरी लहर का सामना : गहलोत
X

अशोक गहलोत

जयपुर। राजस्थान में कोरोना वायरस (Corona Virus) को लेकर स्थिति फिर से चिंता जनक बनती जा रही है। यहां संक्रमितों की संख्या में बढ़ोतरी दर्ज हो रही है। पिछले 24 घंटों में यहां तीन और मरीजों ने दम तोड़ दिया है। ऐसे में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने राज्य में कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के आसन्न खतरे पर गंभीर चिंता व्यक्त करते हुए सभी स्वास्थ्य एवं प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे अपने पुराने अनुभव के आधार पर महामारी पर नियंत्रण के लिए उपलब्ध संसाधनों को उपयोग में लें।

अधिकारियों को दिए निर्देश

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि अधिक जांच, भीड़ पर नियंत्रण, मास्क पहनने, बार-बार हाथ धोने और सामाजिक दूरी के कोरोना से बचाव के नियमों के पालन में फिर से कड़ाई लाएं। गहलोत बृहस्पतिवार रात को कोरोना संक्रमण की स्थिति की समीक्षा बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि एक सप्ताह में ही कोरोना संक्रमित मरीजों का तीन गुना बढ़ जाना बेहद चिंताजनक है।

पूरे देश में फिर से बढ़ रहा संक्रमण

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के साथ सभी राज्यों की बैठक में यह बात सामने आई है कि पूरे देश में संक्रमण फिर से बढ़ रहा है और कई राज्यों में हालात बहुत अधिक चिंताजनक हो गए हैं। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि आने वाले दिनों में प्रदेश में संक्रमण की किसी भी गंभीर स्थिति से निपटने के लिए अतिरिक्त सावधानी बरतते हुए ऑक्सीजन संयंत्र, जांच प्रयोगशाला, पृथक-वास और निषिद्ध जोन जैसी सुविधाओं को दुरुस्त करें और आवश्यकतानुसार उपयोग के लिए इन्हें तैयार रखें। मुख्यमंत्री ने कहा कि एक बार फिर से कोविड से बचाव के उपाय अपनाने के लिए व्यापक जागरूकता अभियान चलाया जाए।

Next Story