Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एसीबी की बड़ी कार्रवाई- अधिकारी के पास से 47 लाख रुपये कैश बरामद, 50 हजार की रिश्वत लेते किया गिरफ्तार

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने पेट्रोल पंप की एनओसी जारी करने की एवज में 50 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुये बुधवार को एक्सईएन दान सिंह और तकनीकी सहायक सीताराम वर्मा को ट्रैप किया किया था। ये दोनों आरोपी अधिकारी मिनिस्ट्री ऑफ रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाईवेज से संबंधित हैं।

एसीबी की बड़ी कार्रवाई- अधिकारी के पास से 47 लाख रुपये कैश बरामद, 50 हजार की रिश्वत लेते किया गिरफ्तार
X

जयपुर रिश्वत मामला

राजस्थान में रिश्वतखोर अफसरों के खिलाफ एसीबी कड़ी कार्रवाई कर रही है। ऐसे अधिकारी जो काम कराने की एवज में रिश्वत ले रहे हैं उन पर एसीबी कहर बन कर टूट रही है। ऐसा ही एक मामला जयपुर से सामने आया है। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने पेट्रोल पंप की एनओसी जारी करने की एवज में 50 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुये बुधवार को एक्सईएन दान सिंह और तकनीकी सहायक सीताराम वर्मा को ट्रैप किया किया था।

ये दोनों आरोपी अधिकारी मिनिस्ट्री ऑफ रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाईवेज से संबंधित हैं। एसीबी ने इस मामले में गिरफ्तार तकनीकी सहायक अधिकारी सीताराम वर्मा के जब जयपुर स्थित घर की तलाशी ली तो उनके पास से बड़ी मात्रा में नगदी और संपत्ति के कागजात मिले हैं। एसीबी को सीताराम वर्मा के आवास से कुल 47 लाख 77 हजार 250 रुपए कैश मिले हैं। एसीबी ने इनमें से 47 लाख 37 हजार 900 रुपयों को जब्त कर लिया है।

एसीबी एडीजी दिनेश एमएन ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ बुधवार को बीकानेर निवासी पीड़ित ने शिकायत दर्ज करवाई थी। जिसका सत्यापन करने के बाद गुरुवार दोपहर में अजमेर रोड डीसीएम स्थित मिनिस्ट्री ऑफ रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाईवेज के ऑफिस में दबिश देकर गिरफ्तार कर लिया। सीजीएसटी विभाग में नोटिस का जवाब स्वीकार करने की एवज में 40 हजार रुपये की रिश्वत लेने वाले अधीक्षक राम स्वरुप व निरीक्षक सुनील को एसीबी ने गुरुवार को रंगे हाथ पकड़ लिया।

आरोपियों ने पीड़ित से रिश्वत लेकर ऑफिस के लॉकर में छिपा दी। एसीबी ने करीब दो घंटे तलाश करके लॉकर से निकाली थी। डीजी एसीबी बीएल सोनी ने बताया कि पीड़ित ने बुधवार शाम को ही शिकायत दर्ज करवाई कि नोटिस का जवाब स्वीकार करने की एवज में अधीक्षक और निरीक्षक 50 हजार रुपए मांग रहे है। उसके बाद आरोपियों ने 40 हजार रुपए में सौदा तय कर लिया।

रिश्वत की यह रकम बरामद करने के बाद अब गुरुवार दोपहर से लगातार दोनो अफसरों के यहां सर्च जारी है। आज सवेरे एसीबी अफसरों ने अपडेट दिया कि जो 47 लाख रुपए से ज्यादा रकम थी वह अलमारी में सेफ जगह पर छुपा रखी थी। उसके अलावा सीताराम वर्मा के यहां से तीन लग्जरी कारें बरामद मिली हैं। पास ही एक चार मंजिला बंगला बन रहा है। जिस पर करोड़ों खर्च किए जा रहे हैं। जो भी पैसा एसीबी को वहां से मिला वह एसीबी ने कब्जे में ले लिया। दोनों के यहां सर्च जारी है।

Next Story