Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सॉफ्ट हिंदुत्व की राह पर कांग्रेस: दिग्विजय ने बताया राम को आस्था का केंद्र

अयोध्या में मंदिर निर्माण का किया समर्थन, उप चुनाव में भाजपा को नहीं लेने देगी लाभ। पढ़िए पूरी खबर-

सॉफ्ट हिंदुत्व की राह पर कांग्रेस: दिग्विजय ने बताया राम को आस्था का केंद्र
X

भोपाल। पांच अगस्त को अयोध्या में होने वाले राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन कार्यक्रम को लेकर राजनीति शुरू हो गई है। एक तरफ भाजपा देश भर में मंदिर निर्माण को लेकर राममय माहौल बनाने की कोशिश में है तो कांग्रेस ने तय किया है कि वह भाजपा को उप चुनावों में इसका लाभ नहीं लेने देगी। इसे ध्यान में रखकर कांग्रेस ने साफ्ट हिंदुत्व का कार्ड चल दिया है। शुक्रवार को कमलनाथ ने अयोध्या में राममंदिर निर्माण का समर्थन किया था, शनिवार को दिग्विजय सिंह ने कमलनाथ की हां में हां मिला दी। दिग्विजय सिंह ने कहा कि भगवान राम आस्था का केंद्र हैं और जल्द से जल्द अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए।

शुभ मुहूर्त को लेकर शंकराचार्य का समर्थन

इससे पहले दिग्विजय सिंह ने भव्य राम मंदिर निर्माण को पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का सपना बताया था। उन्होंने लिखा था कि राजीव गांधी भी यही चाहते थे। पर दिग्विजय ने मंदिर निर्माण के मुहूर्त को लेकर शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती का समर्थन किया। उन्होंने कहा कि देश में 90 फीसदी हिंदू मुहूर्त, ग्रह दशा, ज्योतिष, चौघड़िया, धार्मिक विज्ञान को मानते हैं। रामलाल की पूजा अर्चना से जुड़े पुजारी व अन्य लोगों का कोरोना की चपेट में आना स्पष्ट करता है कि शंकराचार्य जी ने मुहूर्त को लेकर जो बात कही, वह सच है। दिग्विजय सिंह ने यह भी कहा कि भगवान राम को केवल प्रेम प्यारा है, जो जानने वाला हो वह जान ले।

कांग्रेस ने गिनाए हिंदुत्व से जुड़े काम

कमलनाथ और दिग्विजय ने सिर्फ राम मंदिर निर्माण का स्वागत और समर्थन ही नहीं किया। कांग्रेस सरकार द्वारा कामों को गिनाते हुए यह भी कहा कि हम जितना बोलते हैं, उससे ज्यादा करते हैं। कमलनाथ के कार्यकाल में महाकाल एवं ओमकारेश्वर मंदिर के विकास, राम वन गमन पथ के निर्माण, गौशाला निर्माण, ओम सर्किट, क्षिप्रा की सफाई, नर्मदा का संरक्षण और पुजारियों का मानदेय बढ़ाए जाने की दिशा में काम हुए थे। अब मंदिर निर्माण के समय भी कांग्रेस ने पूरे प्रदेश में श्रीराम पूजन एवं हनुमान चालीसा का पाठ कराने का निर्णय लिया है। भोपाल में आयोजन 4 अगस्त को कमलनाथ के निवास में होगा।

जयभान ने साधा दिग्विजय पर निशाना

बजरंग दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे जयभान सिंह पवैया ने दिग्विजय के ट्वीट पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि आतंकियों के वध पर रोने वाले कारसेवकों के बलिदान पर एक शब्द भी नहीं बोले थे। राम मंदिर निर्माण के लिए कांग्रेसियों के समर्थन या विरोध के अब मायने ही क्या हैं? पवैया ने कहा कि फैसला आने के पहले इनमें से कौन ऐसा माई का लाल है जिसने राम मंदिर गर्भ गृह पर ही बनने का दावा किया हो। इससे पहले दिग्विजय सिंह ने अपने ट्वीट में लिखा-

'हमारी आस्था के केंद्र भगवान राम ही हैं ! आज समूचा देश भी राम भरोसे ही चल रहा है। इसीलिए हम सबकी आकांक्षा है कि जल्द से जल्द एक भव्य मंदिर अयोध्या राम जन्म भूमि पर बने और राम लला वहां विराजें। स्व. राजीव गांधी जी भी यही चाहते थे।'

रामहि केवल प्रेमु पिआरा।

जानि लेउ जो जान निहारा॥

भावार्थ:-श्री रामचन्द्रजी को केवल प्रेम प्यारा है, जो जानने वाला हो...

Posted by Digvijaya Singh on Friday, July 31, 2020

Next Story
Top