Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अकेला शिक्षक डकार गया 227 बच्चों का मिड-डे मील

यह राशि डकारने का खुलासा अभिभावकों द्वारा लगाई गई आरटीआई में हुआ। सोमवार को इससे गुस्साए ग्रामीणों ने स्कूल के मुख्य गेट को ताला जड़ दिया तथा जमकर नारेबाजी की।

PM Poshan Scheme: मिड-डे-मील योजना का नाम बदलकर
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हरिभूमि न्यूज : कैथल

राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय गुहना में एक शिक्षक स्कूल में पढ़नें वाले 227 बच्चाें का कोरोना काल का मिड-डे मील हड़प गया। यह राशि डकारने का खुलासा अभिभावकों द्वारा लगाई गई आरटीआई में हुआ। सोमवार को इससे गुस्साए ग्रामीणों ने स्कूल के मुख्य गेट को ताला जड़ दिया तथा जमकर नारेबाजी की।

अभिभावकों की मांग

आरोपी शिक्षक के खिलाफ कार्रवाई की जाए। जब तक गबन के आरोपित शिक्षक के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती, तब तक ताला लगा रहेगा। शिक्षक पर लगे आरोपों के संदर्भ में बातचीत करने के लिए उन्हें कई बार फोन किए गए, लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया।

कोरोना काल में आया था मिड-डे मील

अभिभावक अनिल मौदगिल, सोनू शर्मा ने बताया कि उनके बच्चे गांव के ही सरकारी स्कूल में पढ़ते हैं। कोरोना काल में जब स्कूल बंद थे तो सरकार ने मिड-डे मील के लिए घर-घर जाकर राशन देने की व्यवस्था की थी। प्रत्येक बच्चे को प्रतिदिन सात रुपये 45 पैसे भोजन के लिए मिलते हैं। स्कूल में करीब 227 बच्चों की राशि आई थी, जिसे सतीश कुमार नाम के शिक्षक ने अपने खाते में डाल लिया। जब पूरे मामला ग्रामीणों के सामने खुल गया तो पंचायत हुई। पंचायत मंे शिक्षक ने कहा कि वह सारी राशि बच्चों के खाते में ट्रांसफर कर देगा और अलग से एक लाख रुपये भी हर्जाने के रूप में दे देगा। इस पर समझौता हो गया था।

जांच में अन्य मामले भी खुल सकते हैं

अभिभावकों ने बताया कि शिक्षक ने बच्चों के खाते में पैसे डाल भी दिए थे लेकिन इससे उसका अपराध तो कम नहीं होगा। उन्हें आशंका है कि आरोपित शिक्षक ने सिर्फ कोरोना काल में ही गबन नहीं किया। जांच की जाए तो और भी मामले सामने आ सकते हैं। उन्होंने इसके लिए उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला, शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर, गृह मंत्री अनिल विज, विधायक कैथल लीला राम, डीसी कैथल और जिला शिक्षा अधिकारी को भी शिकायत की, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। उन्होंने कहा कि जब प्रिंसिपल ने भी कोई कार्रवाई नहीं की। इसके चलते दो दिन पहले ही गांव में पंचायत करके स्कूल पर ताला लगाने का फैसला लेना पड़ा।

कार्रवाई को लिखा पत्र

राजकीय स्कूल गुहना के प्रिंसिपल सुनंदा खुराना ने शिक्षक सतीश कुमार पर लगे आरोपों की पुष्टि करते हुए कहा कि उन्होंने 227 बच्चों के पैसे का गबन किया था। ग्रामीणों के कहने पर बच्चों के खाते में पैसे डाल दिए गए हैं। उनसे मिड डे मील का चार्ज लेकर उनके खिलाफ कार्रवाई के लिए जिला शिक्षा अधिकारी और जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी को पत्र के माध्यम से अवगत करवा दिया है।


Next Story