Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रोडवेज बसों में सफर करने वाले यात्रियों पर पड़ रही दोहरी मार, 10 रुपये तक बढ़ा किराया दे रहे

कोरोना संक्रमण के बाद जब अनलॉक हुआ तो बसों में केवल 30 यात्रियों को बैठाने की ही शर्त थी। तब पांच से सात रुपये तक टोल टैक्स बढ़ाया गया था। लेकिन यह टोल टैक्स अभी तक यात्रियों से वसूला जा रहा है जबकि अब हालात सामान्य हो चुके हैं।

रोडवेज बसों में सफर करने वाले यात्रियों पर पड़ रही दोहरी मार, 10 रुपये तक बढ़ा किराया दे रहे
X

बस अड्डा 

हरिभूमि न्यूज. जींद

रोडवेज में सफर करने वाले यात्रियों पर अब भी दोहरी मार पड़ रही है। कोरोना संक्रमण के बाद जब अनलॉक हुआ तो बसों में केवल 30 यात्रियों को बैठाने की ही शर्त थी। तब पांच से सात रुपये तक टोल टैक्स बढ़ाया गया था। उस दौरान यह कहा गया था कि जब स्थिति सामान्य होगी तो टोल टैक्स को कम कर यात्रियों को राहत देने का काम किया जाएगा। लेकिन यह टोल टैक्स अभी तक यात्रियों से वसूला जा रहा है जबकि अब हालात सामान्य हो चुके हैं और रोडवेज की बसों में भी सभी 52 साीटों पर यात्री भी बैठाए जाने लगे हैं।

कोरोना के नाम की अवैध वसूली अभी तक बंद नहीं हुई है। जींद से हिसार का किराया 80 रुपये होना चाहिए लेकिन अभी भी 85 रुपये लिए जा रहे हैं तो जींद से चंडीगढ़ के लिए भी 10 रुपये ज्यादा लिए जा रहे हैं।

गौरतलब है कि गत वर्ष 23 जून 2020 को परिवहन विभाग ने कोरोना का संक्रमण की बात कहते हुए बसों में कम यात्रियों को बैठाए जाने को लेकर टैक्स बढ़ोत्तरी के आदेश दिए थे। टैक्स बढ़ोत्तरी तब तक लागू करने के लिए कहा गया था जब तक बसों में सभी सीटों पर यात्री बैठाने की अनुमति नहीं मिल जाती। गत छह अगस्त को बसों में सीटों के हिसाब से यात्रियों को बैठाने की अनुमति मिली लेकिन टैक्स अभी तक नहीं हटाया गया है। इस कारण यात्रियों को पांच से सात रुपये ज्यादा किराये के रूप में देने पड़ रहे हैं। जींद से चंडीगढ़ के लिए किराया 225 रुपये बनता है लेकिन टोल बढ़ोतरी की बात कह कर 230 रुपये यात्रियों से लिए जा रहे हैं। हिसार के लिए भी किराया 80 रुपये होना चाहिए लेकिन 85 रुपये लिए जा रहे हैं। जींद से नरवाना के लिए 45 की जगह 50 रुपये लिए जा रहे हैं। रोजाना सफर करने वाले यात्रियों ने मांग की है कि टोल दरों को वापस कम किया जाए।

मामले का किया जाएगा पता : जीएम

जींद डिपो के महाप्रबंधक बिजेंद्र सिंह ने बताया कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए परिवहन विभाग ने टोल टैक्स में वृद्धि की थी। इस बारे में कर्मचारियों से जानकारी ली जाएगी कि बढ़ा हुआ टोल टैक्स किराया वापस हुआ या नहीं। इसके बाद परिवहन विभाग से निर्देश मांगा जाएगा।

Next Story