Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रोहतक में देश का पहला एलिवेटेड ट्रैक शुरू, 112 किलोमीटर प्रतिघंटा की स्पीड से दौड़ी ट्रेन

राेहतक में जाम से परेशान लोगों को बड़ी राहत मिली है। करीब ढाई साल के बाद देश का पहला रेलवे एलिवेटेड ट्रैक शुरू हो गया है। रविवार से ही इस पर ट्रेन दौड़ने लगी हैं। चारों फाटक खत्म कर दिए गए हैं। अब फाटक बंद होने के कारण जाम नहीं लगेगा।

रोहतक में देश का पहला एलिवेटेड ट्रैक शुरू, 112 किलोमीटर प्रतिघंटा की स्पीड से दौड़ी ट्रेन
X

एलिवेटेड ट्रैक पर चढ़ती ट्रेन।

रोहतक। राेहतक में जाम से परेशान लोगों को बड़ी राहत मिली है। करीब ढाई साल के बाद देश का पहला रेलवे एलिवेटेड ट्रैक शुरू हो गया है। रविवार से ही इस पर ट्रेन दौड़ने लगी हैं। चारों फाटक खत्म कर दिए गए हैं। अब फाटक बंद होने के कारण जाम नहीं लगेगा। वहीं श्रीनगर कॉलोनी वाला फाटक पहले की तरह चलता रहेगा। गांधी कैंप के लोगों के लिए ट्रैक की आरई वॉल में 10 क्रॉसिंग छोड़ी गई हैं। बता दें कि ट्रैक पर 350 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। ट्रैक डबल फाटक के पास से शुरू होकर सेक्टर-6 पहुंचकर खत्म होगा। इसकी लंबाई 4.8 किलोमीटर है। रविवार को स्पेशल ट्रेन चलाई गई जो 112 किलोमीटर प्रतिघंटा की स्पीड से दौड़ी। ट्रेन ने स्टेशन से सेक्टर-6 तक पहुंचने में कुल दो ही मिनट का समय लिया।

रविवार सुबह रेलवे सेफ्टी के कमिश्नर लतीफ खान करीब 150 अधिकारियों और टेक्निकल स्टाफ के साथ रोहतक पहुंचे। वे कुछ देर के लिए रेलवे स्टेशन पर रुके। यहां दौरा करने के बाद वे श्रीनगर कॉलोनी के पास रेलवे एलिवेटेड ट्रैक पर पहुंचे, जहां से ट्रायल शुरू होना था। ट्रायल के लिए अधिकारी एक बॉगी में बैठे और पीछे-पीछे एक इंजन चलाया गया। हर एंगल से ट्रैक का निरीक्षण किया और सेक्टर-6 तक पहुंचे। इसके बाद अधिकारी वापस आए। लाइन क्लीयर करवाने के बाद 14 डिब्बों की स्पेशल ट्रेन ट्रैक पर चलाई गई। इसकी गति करीब 112 किलोमीटर प्रतिघंटा रही। दो मिनट से भी कम समय में ट्रेन ने ट्रैक पार कर लिया। टीम में सिग्नल टेलीकॉम, इलेक्ट्रिक, इंजीनियरिंग और वर्कशॉप अधिकारियों समेत एडीआरएम अश्वनी यादव, टीईसी डीपी सिंह, सीईडी राजेश सिंह व अन्य अधिकारी शामिल रहे। शाम पांच बजे तक हर बिंदू पर खरा उतरने के बाद ट्रैक के संचालन को मंजूरी दे दी गई। अब ट्रैक पर रुटीन में ट्रेन दौड़ने लगेंगी।

Next Story