Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बच्चों को कोरोना वैक्सीन जल्द, हरियाणा सरकार ने भी शुरू की तैयारी

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बताया कि केन्द्र सरकार ने 18 साल से नीचे की आयु वर्ग के बच्चों हेतु वैक्सीन स्वीकृत कर दी है और जब भी इस आयु के बच्चों को वैक्सीन देने का कार्य शुरू होगा, उसके लिए हरियाणा ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं।

Sunday Special : स्टडी में हुआ खुलासा- कोरोना का टीका लगवाने के बाद भी लोग हो रहे संक्रमित, इस वजह से फैल रहा संक्रमण
X

कोरोना वैक्सीन

चंडीगढ़। हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने सितंबर, 2021 में आयोजित कोविड-19 सीरो सर्वेक्षण के तीसरे राउंड की रिपोर्ट जारी की, जिसमें राज्य के लोगों में सीरो पॉजिविटी दर 76.3 प्रतिशत (शहरी 78.1 प्रतिशत और ग्रामीण 75.1 प्रतिशत) पाई गई जबकि पहले सीरो राउंड में 8 प्रतिशत तथा दूसरे सीरो राउंड में 14.8 प्रतिशत पॉजिविटी दर पाई गई थी। विज सीरो सर्वे के तीसरे राउंड की रिपोर्ट को जारी करने के दौरान पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। इस मौके पर उन्होंने सीरो सर्वें के तीसरे राउंड की रिपोर्ट की पुस्तक का भी विमोचन किया।

उन्होंने बताया कि सीरो सर्वे के दौरान पुरुषों में 75.3 प्रतिशत, महिलाओं में 77.1 प्रतिशत, 6 से 9 वर्ष के बच्चों में 69.8 प्रतिशत, 10 से 17 वर्ष के बच्चों 73.2 प्रतिशत की पॉजिविटी पाई गई है जबकि टीकाकरण के पश्चात लोगों में 81.6 प्रतिशत, नॉन-वैक्सीनेटेड लोगों में 75.5 प्रतिशत की पॉजिविटी पाई गई। उन्होंनें कहा कि यह सीरो सर्वेक्षण कोविड-19 टीकाकरण के परिणामस्वरूप या प्राकृतिक संक्रामक द्वारा सार्स एंड कोव-2 के खिलाफ एंटीबॉडी की उपस्थिति का आंकलन करने के लिए किया गया था। उन्होंने बताया कि इस सर्वें में प्राकृतिक एवं टीकाकरण से उत्पन्न हुई एंटीबॉडी का पता लगाने का सर्वेक्षण किया गया और टीकाकरण के बाद बनने वाली एंटीबॉडी का स्पाइक प्रोटीन का टैस्ट भी हुआ है।

18 साल से नीचे की आयु वर्ग के बच्चों को वैक्सीन देने के लिए राज्य सरकार कर रही तैयारी

विज ने बताया कि केन्द्र सरकार ने 18 साल से नीचे की आयु वर्ग के बच्चों हेतु वैक्सीन स्वीकृत कर दी है और जब भी इस आयु के बच्चों को वैक्सीन देने का कार्य शुरू होगा, उसके लिए हरियाणा ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं। उन्होंने कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर के संबंध में कहा कि हम राज्य के हर व्यक्ति को सुरक्षा कवच कोविड के खिलाफ देने के लिए भरसक प्रयास कर रहे हैं ताकि जब कभी कोविड की तीसरी लहर आए, तो नुकसान न हो। उन्होंने तीसरे दौर के सीरो सर्वेक्षण में शामिल सभी अधिकारियों व कर्मचारियों की सराहना की।

सीरो सर्वें का 36,520 था सैम्पल साइज

उन्होंने बताया कि ''स्वास्थ्य विभाग द्वारा सामुदायिक चिकित्सा विभाग, पीजीआईएमएस, रोहतक के सहयोग से हरियाणा के सभी जिलों में यह सर्वेक्षण किया गया। सीरो सर्वेक्षण के इस दौर में सैम्पल का साइज 36,520 तक बढ़ाया गया। राज्य में किए गए पिछले सीरो सर्वेक्षणों की तुलना में यह सैम्पल साइज बहुत बड़ा था जबकि पहले दौर में 18,700 और दूसरे दौर में 15,840 का सैम्पल साइज था। विज ने बताया कि गत 16 जनवरी, 2021 से स्वास्थ्य विभाग, हरियाणा कोविड-19 के खिलाफ पात्र आबादी का टीकाकरण करने के लिए युद्ध स्तर पर काम कर रहा है और इस सीरो सर्वेक्षण का संचालन करके, राज्य में चल रहे कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम की प्रभावकारिता के बारे में एक आंकलन किया गया है। स्वास्थ्य विभाग के प्रयासों की सराहना करते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि सीरो सर्वे के इस दौर को संचालित करने के लिए राज्य मुख्यालय और जिला स्तर पर स्वास्थ्य विभाग का काम वास्तव में सराहनीय है।

फरीदाबाद में होगा दौबारा सीरो सर्वे

सेरोप्रवलेंस के परिणामों का विस्तार से खुलासा करते हुए उन्होंने बताया कि सीरो प्रसार अध्ययन से पता चलता है कि हरियाणा राज्य में सार्स एंड कोव-2 की समग्र सीरो-पॉजिविटी 76.3 प्रतिशत (शहरी 78.1 प्रतिशत और ग्रामीण 75.1 प्रतिशत) पाई गई है। उन्होंने बताया कि जिला कुरुक्षेत्र में सबसे अधिक 85 प्रतिशत सीरो-पॉजिटिविटी देखी गई और सबसे कम फरीदाबाद में 64.2 प्रतिशत देखी गई। लेकिन फरीदाबाद में 14 प्रतिशत सैम्पल का निष्कर्ष किन्हीं कारणों से नहीं निकल पाया, इसलिए फरीदाबाद जिला का दौबारा सीरो सर्वें करवाया जाएगा।विज ने बताया कि हरियाणा में 76 प्रतिशत की पॉजिविटी मिलना एक प्रकार से सुकुन देने वाली बात है और ऐसे सभी लोगों को एक सुरक्षा कवच मिल चुका है। विज ने वैक्सीनेशन के संबंध में बताया कि राज्य में अब तक लगभग 2.47 करोड लोगों को वैक्सीनेट किया जा चुका है जिसमें लगभग 1.74 करोड लोगों पहली डोज और 73 लाख से अधिक लोगों को दूसरी डोज लग चुकी है।

Next Story