Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना वैक्सिन की विश्वसनीयता पर संदेह, ग्रामीणों ने टीके लगाने गए डॉक्टराें को वापस भेजा

गांव जयसिंहपुरा में कोरोना वैक्सीन का शिविर लगाने गई टीम को ग्रामीणों के विरोध का सामना करना पड़ा।

जोधपुर में 101 कंद्रों पर वक्सीनेशन अभियान जारी, जानिए अब तक कितने स्वास्थ्यकर्मियों को लगाया जा चुका है टीका
X

जोधपुर में 101 कंद्रों पर वक्सीनेशन अभियान जारी

हरिभूमि न्यूज : असन्ध (करनाल)

क्षेत्र के गांव जयसिंहपुरा में कोरोना वैक्सीन का शिविर लगाने गई टीम को ग्रामीणों के विरोध का सामना करना पड़ा। वैक्सिनेशन की वश्विसनीयता पर गंभीर आरोप लगाते हुए ग्रामीणों ने स्वास्थ्य विभाग की टीम को बैरंग लौटा दिया। ग्रामीण छत्रपाल, सुरेश, कृष्ण, विक्रम आदि ने बताया कि सुबह उनके गांव में स्वास्थ्य विभाग की एक टीम कोरोना के टीके लगाने के लिए आई।उन्होंने कहा कि ग्रामीणों को वैक्सीन की वश्विसनीयता पर सन्देह है और पूर्व में भी के लोग टीके के गंभीर परिणाम झेल चुके हैं।

छत्रपाल ने आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार जानबूझकर किसान आंदोलन को कमजोर कर के के लिए हरियाणा पंजाब में टीकाकरण का अभियान चला रही है जबकि ऐसा पूरे देश में नहीं किया जा रहा। ग्रामीणों ने कहा कि वो अपने गांव में टीका नहीं लगवाने देंगे। मामले की सूचना मिलते ही कार्यकारी खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ जयपाल चहल पुलिस बल के साथ मौके पर पंहुचे और ग्रामीणों को समझाने का प्रयत्न किया परन्तु ग्रामीण नहीं माने और टीम को वापिस लौटना पड़ा। इस सम्बंध में डॉक्टर जयपाल चहल ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग सामान्य अस्पताल के अलावा विभिन्न गांवों में जाकर कोरोना वैक्सिनेशन के टीके लगा रहा है परंतु आज गांव जयसिंहपुरा में कुछ ग्रामीणों ने यह कहकर टीकाकरण का विरोध किया कि टीका स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। उन्होंने कहा कि टीका पूर्ण रूप से सुरक्षित है और बेवजह अफवाह फैलाकर कुछ लोग वैक्सीन को बदनाम कर रहे हैं।

Next Story