Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना ने ठंडा किया आइसक्रीम व कोल्ड ड्रिंक का कारोबार

आइसक्रीम की ठेलियां चौराहों से लेकर मुहल्लों तक में लगने लगी थी। लेकिन अप्रैल में कोल्डड्रिंक और आइसक्रीम की अच्छी खासी सेल भी हुई। लेकिन अप्रैल के अंतिम सप्ताह में कोरोना संक्रमण ने हालात बिगाड़ दिए। मई की शुरूआत से लॉकडाउन लग गया। इसके बाद से कोल्डड्रिंक और आइसक्रीम सब बंद हो गई। तब से ही आइसक्रीम की भी फैक्ट्रियां भी बंद पड़ी हैं।

कोरोना ने ठंडा किया आइसक्रीम व कोल्ड ड्रिंक का कारोबार
X

हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़

जिले में कोल्ड ड्रिंक और आइसक्रीम के कारोबार का कोरोना ने इस बार भी ठंडा कर दिया। लोगों के इन उत्पादों से दूरी बना लेने और लॉकडाउन लग जाने से लाखों रुपए का कारोबार प्रभावित हो चुका है। कारोबारी आगे भी इसमें तेजी आने की संभावनाओं से इंकार कर रहे हैं। जबकि आमतौर पर मार्च से अक्टूबर तक आइसक्रीम और कोल्ड ड्रिंक की बंपर डिमांड रहती थी। इन महीनों में ही कंपनियों और डिस्ट्रीब्यूटर्स के साल भर के टारगेट पूरे हो जाते थे।

बीते वर्ष 2020 में कोरोना संक्रमण की मार झेल चुके कोल्ड ड्रिंक और आइसक्रीम कारोबारी जनवरी से कम हुए संक्रमण के बाद से इस वर्ष अच्छे कारोबार की उम्मीद कर रहे थे। मार्च के अंतिम सप्ताह के बाद से जिले भर की गलीोहल्लों और शहर के प्रमुख क्षेत्रों की दुकानों पर इनकी मांग होने लगी थी। आइसक्रीम की ठेलियां चौराहों से लेकर मुहल्लों तक में लगने लगी थी। लेकिन अप्रैल में कोल्ड ड्रिंक और आइसक्रीम की अच्छी खासी सेल भी हुई। लेकिन अप्रैल के अंतिम सप्ताह में कोरोना संक्रमण ने हालात बिगाड़ दिए। मई की शुरुआत से लॉकडाउन लग गया। इसके बाद से कोल्डड्रिंक और आइसक्रीम सब बंद हो गई। तब से ही आइसक्रीम की भी फैक्ट्रियां भी बंद पड़ी हैं। लॉकडाउन के बाद से वह सभी परेशान हैं। चूंकि होली के बाद से जब कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर आई तो चिकित्सकों ने ठंडा खाने पीने से परहेज रखने की सलाह दी थी। सभी को गुनगुना पानी पीने के लिए ही कहा गया था। इसके चलते भी अप्रैल में कोल्डड्रिंक और आइसक्रीम के कारोबार पर असर पड़ा था। यही वजह है कि कारोबारी और डिस्ट्रीब्यूटर आगे भी इससे बहुत अधिक आस नहीं लगाए हैं।

आइसक्रीम की फैक्ट्री संचालक सतबीर यादव ने बताया कि गर्मियों के साथ ही विवाह समारोहों में भी आइसक्रीम की अच्छी खासी मांग होती है। शादियों के लिए आर्डर भी आए हुए थे, लेकिन सब कुछ टल गया। अधिकांश ने साधारण कार्यक्रम कर विवाह कर लिया। अब तो फैक्ट्री ही बंद है। गाड़ियां सब खड़ी करा दी है। पिछले साल भी ऐसा ही हुआ और इस बार भी। बीते साल तो कुछ माल निकला भी था, लेकिन इस बार पूरी तरह ठप है। कोरोना के चलते लोगों ने भी आइसक्रीम व कोल्ड ड्रिंक की तरफ रुझान कम कर दिया। बहुत हालत खराब है। आइसक्रीम कारोबार को इस बार बड़ी चपत लगी है।

Next Story