Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पियक्कड़ों ने भर दिया आबकारी का खजाना, कोरोना टैक्स से ही 245 करोड़ वसूले

कोरोना संकटकाल में बिकी शराब में अतिरिक्त शुल्क देकर पियक्कड़ों ने एक नया रिकार्ड बना डाला है। कोरोना टैक्स के नाम पर ही शराबियों ने आबकारी के खजाने में 245 करोड़ रुपए से ज्यादा की आवक दर्ज करा दी है। टैक्स भरने में रायपुर के शराब प्रेमी अव्वल निकले हैं। अकेले रायपुर जिले से ही 58 करोड़ रुपए से ज्यादा टैक्स आबकारी को दिया है।

आबकारी फिर से भुनाएगा ऑनलाइन सिस्टम, पिक-अप काउंटर खोलने की तैयारी
X

शराब की दुकान (प्रतीकात्मक फोटो)

कोरोना संकटकाल में बिकी शराब में अतिरिक्त शुल्क देकर पियक्कड़ों ने एक नया रिकार्ड बना डाला है। कोरोना टैक्स के नाम पर ही शराबियों ने आबकारी के खजाने में 245 करोड़ रुपए से ज्यादा की आवक दर्ज करा दी है। टैक्स भरने में रायपुर के शराब प्रेमी अव्वल निकले हैं। अकेले रायपुर जिले से ही 58 करोड़ रुपए से ज्यादा टैक्स आबकारी को दिया है। कोरोना संकटकाल में स्वास्थ्य संबंधी उपचार के लिए इस राशि के इस्तेमाल करने का निर्णय लिया गया था बड़ी आवक होने पर भी इस राशि का सौ फीसदी इस्तेमाल नहीं हो सका। आखिर में आबकारी ने सिर्फ 36 करोड़ रुपए अंग्रेजी माध्यम स्कूलों के लिए खर्च किए।

काेरोना आपदा की घड़ी में सभी 28 जिलों में आबकारी की तरफ से शराब में कोरोना टैक्स लगाया गया था जिसमें पौवा और बोतलों के पीछे शौकीनों ने टैक्स जमा किया। आबकारी की कुल बिक्री के बाद अतिरिक्त टैक्स राशि के रूप में 245 करोड़ 25 लाख 8 हजार 123 रुपए विभाग को मिले हैं। सबसे ज्यादा टैक्स भरने वालों में रायपुर, दुर्ग, महासमुंद और राजनांदगांव के शौकीनों ने रिकार्ड बनाया है।

जितनी राशि जमा, उतने में उपचार

जिले में जिस तरह से कोरोना संकटकाल के दौरान स्वास्थ्य समस्याएं सामने आईं उसमें आबकारी में बढ़ी आवक से जरूरतमंदों को राहत दी जा सकती थी। उपचार और दूसरी तरह की मदद के लिए जिला प्रशासन ने सामाजिक संगठनों के साथ मुहिम चलाकर राहत कोष के लिए राशि जमा की लेकिन आबकारी के पास मिली राशि का इस्तेमाल नहीं कर सके। बता दें कि उपचार संबंधी समस्याओं को लेकर कइयों ने हेल्पडेस्क में ही आर्थिक मदद मांगी थी।

जिलों से इतना कोरोना टैक्स वसूल

बालोद-4 करोड़ 34 लाख, बलौदाबाजार-8 करोड़ 87 लाख, बलरामपुर-1 करोड़ 52 लाख, बेमेतरा- 3 करोड़ 28 लाख, बीजापुर- 3 करोड़ 28 लाख, बिलासपुर- 23 करोड़ 69 लाख, दंतेवाड़ा-3 करोड़ 96 लाख, धमतरी- 5 करोड़ 73 लाख, दुर्ग-28 करोड़ 17 लाख, गरियाबंद- 3 करोड़ 38 लाख, बस्तर- 6 करोड़ 93 लाख, जांजगीर-चांपा- 8 करोड़ 42 लाख, जशपुर 3 करोड़ 16 लाख, कबीरधाम-3 करोड़ 81 लाख, कांकेर 6 करोड़ 27 लाख, कोंडागांव- 2 करोड़ 94 लाख, कोरबा- 9 करोड़ 7 लाख, कोरिया- 3 करोड़ 26 लाख, महासमुंद-11 करारेड़ 69 लाख, मुंगेली-2 करोड़ 77 लाख, नारायणपुर- 1 करोड़ 11 लाख, रायगढ़ 11 करोड़ 20 लाख, रायपुर- 58 करोड़ 57 लाख, राजनांदगांव 18 करोड़ 41 लाख, सरगुजा- 4 करोड़ 58 लाख, सुकमा 1 करोड़ 85 लाख और सूरजपुर- 3 करोड़ 65 लाख।

स्कूल के लिए 36 करोड़

आबकारी की ओर से कोरोना टैक्स की राशि कोषालय में जमा कराई गई है। राज्य शासन के निर्णय के मुताबिक 36 करोड़ रुपए माॅडल इंग्लिश स्कूल के लिए दिए गए हैं। शेष रकम कोषालय में जमा है।



Next Story