Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

'ऑन द स्पॉट' होगी कोरोना जांच, आधे घंटे के भीतर आएगा रिजल्ट

संक्रमण पर नियंत्रण के लिए अब एंटीजन बेस्ड किट का होगा उपयोग, छोटे बच्चों, गर्भवती तथा नि:शक्तजनों को मिलेगी प्राथमिकता

ऑन द स्पॉट होगी कोरोना जांच, आधे घंटे के भीतर आएगा रिजल्ट
X

रायपुर. कोरोना के बढ़ते संक्रमण की रोकथाम के लिए ज्यादा से ज्यादा लोगों की जांच के लिए जिले में एंटीजन बेस्ड किट का उपयोग किया जाएगा। सैंपल से लेकर जांच की प्रक्रिया ऑन द स्पॉट पंद्रह मिनट से आधे घंटे के भीतर पूरी हो जाएगी। संदिग्ध मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर तत्काल अस्पताल में एडमिट किया जा सकेगा। शुरुआत में छोटे बच्चों, गर्भवती तथा नि:शक्तजनों को प्राथमिकता दी जाएगी।

प्रदेश में कोरोना विस्फोट पर रोक लगाने के लिए स्वास्थ्य विभाग चौथे तरीके से सैंपलों की जांच का काम शुरू कर चुका है और संभवतया शनिवार से जिले में इस एंटीजन बेस्ड किट के माध्यम से कोरोना की जांच प्रारंभ हो जाएगी। सूत्रों के मुताबिक इसके माध्यम से जिले में करीब एक हजार लोगों की जांच करने का लक्ष्य पूरा किया जा सकेगा। सूत्रों के मुताबिक वर्तमान में जिले को एक लाख में से छह हजार किट प्राप्त हुए हैं, जिसके माध्यम से यह जांच शुरू की जा सकेगी और आवश्यकता होने पर स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से यह किट प्राप्त हो पाएगी।

सूत्रों के मुताबिक इस जांच में छोटे बच्चों, गर्भवती महिलाओं और नि:शक्तजनों को प्राथमिकता दी जाएगी। एंटीजन बेस्ड किट के माध्यम से जांच स्वास्थ्य केंद्रों के माध्यम से की जाएगी। इस जांच की प्रक्रिया पूरी करने में कम वक्त लगने की वजह से इस बात की आशंका भी खत्म हो जाएगी कि मरीज अगर है पॉजिटिव है, तो उसकी वजह से संक्रमण का खतरा फैलेगा। रिपोर्ट मिलने के बाद संबंधित व्यक्ति को तत्काल इलाज के लिए कोविड अस्पताल में दाखिल कराया जा सकेगा। अगर किसी ऐसे व्यक्ति की रिपोर्ट निगेटिव आती है, जिसमें कोरोना के लक्षण हैं, तो उसकी जांच की प्रक्रिया आरटी पीसीआर के माध्यम से पूरी कराई जाएगी। इस एंटीजन बेस्ड किट के माधयम से कोरोना की जांच के लिए शुक्रवार को जिला स्वास्थ्य विभाग की टीम को प्रशिक्षण दिया गया है। कुछ टीम को पहले ही इस जांच प्रक्रिया से अवगत कराया जा चुका है।

वर्तमान में तीन पद्धति

वर्तमान में प्रदेश में चार मेडिकल कालेजों में वायरोलॉजी लैब के माध्यम से आरटी पीसीआर से आने वाले कोरोना सैंपलों की जांच की जा रही है। वहीं रायपुर, अंबिकापुर और बिलासपुर में आईआरएल लैब के माध्यम से ट्रू आर नॉट तरीके से टीबी के मशीनों से कोविड-19 के मरीजों को पता लगाया जा रहा है। वहीं कई स्थानों पर रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट किट का भी उपयोग किया जा रहा है। इन माध्यमों से प्रतिदिन 3500 लोगों की जांच हो रही है।

ट्रक ड्राइवर की मौत, रिपोर्ट पॉजिटिव

बेंगलुरु से राजनांदगांव लाने के बाद टाटीबंध में अपना ट्रक खड़ी करने वाले ड्राइवर की मौत और उसके कोरोना पॉजिटिव आने के बाद रायपुर में हड़कंप मचा हुआ है। उसका ट्रक टाटीबंध में किस इलाके में खड़ा हुआ है और चालक कहां-कहां जाकर लोगों के संपर्क में आया, इसकी पतासाजी में स्वास्थ्य विभाग के साथ नगर-निगम और जिला प्रशासन की टीम लगी हुई है। संपर्क में आने वालों के सैंपल लेने की प्रक्रिया पूरी की जाएगी।

एंटीजन बेस्ड किट के माध्यम से जांच के लिए कर्मचारियों को ट्रेनिंग दी गई है। इसके माध्यम से संक्रमण रोकने में मदद मिलेगी।

- डॉ. मीरा बघेल, सीएमएचओ, रायपुर

Next Story