Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नुकसान का रोना रोने वाले बस मालिकों को बस खड़ी करने की सलाह

बस मालिकों को राहत देने पहले ही तीन महीने का टैक्स माफ किया है : अकबर

नुकसान का रोना रोने वाले बस मालिकों को बस खड़ी करने की सलाह
X
md akbar

रायपुर. कोरोना संक्रमण में बसें नहीं चलने से नुकसान होने तथा डीजल में बढ़ोतरी का हवाला देकर बस मालिक 30 से 40 प्रतिशत बस भाड़ा में बढ़ोतरी करने की मांग कर रहे हैं। बस मालिकों की मांग को परिवहन मंत्री मोहम्मद अकबर ने खारिज करते हुए साफ शब्दों में कह दिया है कि किसी भी हाल में बस भाड़ा में बढ़ोतरी नहीं की जाएगी। साथ ही परिवहन मंत्री ने विपदा के समय बस मालिकों से सहयोग करने की अपील की है। बस ऑपरेटरों के भाड़ा वृद्धि की मांग से पीछे नहीं हटने पर परिवहन मंत्री ने जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए वैकल्पिक व्यवस्था करने की बात की है।

कोरोना संक्रमण का फैलाव रोकने प्रदेश में 15 मार्च के बाद सार्वजनिक परिवहन पर रोक लगा दी गई थी। अनलॉक-1 की घोषणा होने के बाद राज्य सरकार ने पूरे प्रदेश में जून के अंतिम सप्ताह में सोशल डिस्टेंसिंग और गाइडलाइन का पालन करते हुए बस संचालन करने की अनुमति दी। राज्य सरकार द्वारा बस संचालन करने की अनुमति मिलने के बाद बस संचालक डीजल की कीमत बढ़ने और सवारी नहीं मिलने की बात कहते हुए किराया भाड़ा में बढ़ोतरी करने के बाद ही बस संचालित करने की बात कही। साथ ही किराया भाड़ा में वृद्धि नहीं होने की स्थिति में बस संचालन करने में असमर्थता जताई। इस वजह से अब तक बसों का संचान शुरू नहीं हो पाया है।

पहले ही तीन माह का टैक्स माफ

परिवहन मंत्री के मुताबिक लॉकडाउन में बसों का संचालन नहीं होने से बस ऑपरेटरों को नुकसान से उबारने अप्रैल से जून तक तीन माह का पहले ही टैक्स माफ कर दिया है। श्री अकबर के अनुसार कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन के कारण पहले से ही लोगों के हाथ खाली हैं, इस स्थिति में बस भाड़ा में वृद्धि करना किसी भी स्थिति में उचित नहीं है। परिवहन मंत्री ने बस संचालकों से इस महामारी के समय में बस किराया की जिद छोड़ बस संचालन करने की अपील की है।

नहीं माने तो करेंगे वैकल्पिक व्यवस्था

परिवहन मंत्री ने साफ तौर पर कह दिया है कि बस ऑपरेटरों की बेजा मांग को सरकार नहीं मानेगी। बस ऑपरेटरों के जिद पर अड़े रहने की स्थिति में राज्य में यात्री सेवा बहाल करने परिवहन मंत्री ने वैकल्पिक व्यवस्था करने की बात कही है। इस लिहाज से बस ऑपरेटर अपनी जिद पर अड़े रहेंगे, तो राज्य सरकार किसी दूसरे प्रदेश के बस ऑपरेटरों की मदद से यात्री बस सेवा शुरू कर सकती है।

नुकसान होने की स्थिति में बस खड़ी कर दें

परिवहन मंत्री के अनुसार जिन बस मालिकों को बस परिचालन करने में परेशानी हो रही है, वे एम तथा के फार्म जमा कर अपनी बसों को खड़ी कर सकते हैं। इससे उन्हें रोड टैक्स भी नहीं देना पड़ेगा, साथ ही उन्हें बस संचालन से होने वाले आर्थिक नुकसान का भार नहीं सहना पड़ेगा।

वैकल्पिक व्यवस्था करेंगे

कोरोना संक्रमण के चलते किए गए लाॅकडाउन से लोगों के हाथ खाली हैं, इस लिहाज से बस भाड़ा में वृद्धि करना अन्याय होगा। हमने पहले ही बस ऑपरेटरों का तीन महीने का टैक्स माफ कर दिया है। इस महामारी के समय बस ऑपरेटरों को सहयोग करना चाहिए। बस ऑपरेटर अपनी जिद पर अड़े रहेंगे, तो हम वैकल्पिक व्यवस्था करेंगे।

- मोहम्मद अकबर, परिवहन मंत्री

Next Story