Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

श्मशान घाट पहुंचा दो भाईयों का प्रॉपर्टी विवाद, मां का शव चिता पर रख मुखाग्नि को लेकर हुआ ड्रामा

बिहार के छपरा में प्रॉपट्री बंटवारे की लड़ाई श्मशान घाट में भी शांत नहीं हुआ। दरअसल, अभी तक पुलिस प्रशासन और कोर्ट में संपत्ति बंटवारे के मामले चलते हुए सुने होंगे। लेकिन छपरा का मामला कुछ हटकर है।

श्मशान घाट पहुंचा दो भाईयों का प्रॉपर्टी विवाद, मां का शव चिता पर रख मुखाग्नि को लेकर हुआ ड्रामा
X

बिहार (Bihar) के छपरा (Chapra) में प्रॉपट्री बंटवारे की लड़ाई श्मशान घाट में भी शांत नहीं हुआ। दरअसल, अभी तक पुलिस प्रशासन और कोर्ट में संपत्ति बंटवारे के मामले चलते हुए सुने होंगे। लेकिन छपरा का मामला कुछ हटकर है। 105 साल की बुजुर्ग की मौत के बाद दोनों भाईयों ने अपनी मां को अलग—अलग मुखाग्नि दी। हालांकि, इनके बीच में संपत्ति विवाद का मामला कोर्ट में विचारधीन है।

जानकारी के अनुसार, स्वर्गीय इंद्र देव राय की पत्नी गीता देवी की मौत हो गई थी। अंतिम संस्कार (Funeral) के लिए उनके शव को रिविलगंज के सिमरिया घाट ले जाया गया। अंतिम संस्कार में गांव और अन्य रिलेटिव भी शामिल हुए। गीता देवी का बड़े बेटा सिंगेश्वर राय मां को मुखाग्नि देने की तैयारी कर रहा था। उसी दौरान सिंगेश्वर राय का छोटा भाई दिनेश्वर राय पहुंच गया। मां को मुखाग्नि देने की जिद पर दोनों अड़ गए। हालांकि, दोनों भाईयों के बीच मुखाग्नि को लेकर दुविधा भी खड़ी हो गई। वहां मौके पर मौजूद लोगों के समझाने के बाद दोनों ने मां को एक साथ मुखाग्नि दी।

इन दोनों के बीच पुश्तैनी चार बीघा जमीन और मकान को लेकर विवाद चल रहा है। मृतका गीता देवी अपने बड़े बेटे सिंगेश्वर राय के पास रहती थी। गीता के पति पुलिस से रिटायर्ड थे। जिन्हें पेंशन भी मिलती थी। पेंशन को लेकर भी दोनों के बीच अक्सर विवाद रहता था। मौत के बाद छोटे भाई को लगा उसे अब प्रॉपर्टी नहीं मिलेगी। जिसकी वजह से वइ मुखाग्नि की जिद पर अड़ गया।

और पढ़ें
Next Story