Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सत्तरघाट पुल ध्वस्त मामले में पार्षद समेत दो दर्जन लोगों के खिलाफ एफआईआर

गोपालगंज में बुधवार को सत्तरघाट पुल का अप्रोच रोड ध्वस्त हो गया था। जिसको लेकर पार्षद विजय बहादुर यादव समेत अन्य लोगों ने सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर सीएम नीतीश कुमार, डिप्टी सीएम सुशील मोदी का पुतला जलाया था। वहीं पार्षद समेत करीब दो दर्जन लोगों पर लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर मामला दर्ज हुआ है।

Rajasthan Crisis: बीजेपी के लक्ष्मीकांत भारद्वाज ने कांग्रेसी नेताओं के खिलाफ दर्ज करवाया FIR, फेक ऑडियो वायरल करने का लगाया आरोप
X
प्रतीकात्मक तस्वीर

गोपालगंज में सत्तरघाट पुल का अप्रोच रोड टूटने के मामले में बैकुंठपुर थाने में तीन अलग-अलग एफआईआर दर्ज हुई हैं। वार्ड नंबर 31 के पार्षद विजय बहादुर यादव, स्थानीय मुखिया संजय राय समेत दो दर्जन से ज्यादा लोगों पर मामला दर्ज किया गया है। सर्किल अफसर पंकज कुमार ने लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर पार्षद विजय बहादुर समेत अन्य लोगों पर केस दर्ज कराया है। लॉकडाउन के बावजूद गुरुवार को लोगों ने सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया था और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी का पुतला फूंका था।

रोड के ठेकेदार उदय सिंह ने स्थानीय मुखिया संजय राय के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। संजय पर काम में बाधा पहुंचाने का आरोप है। इसके अलावा बिहार राज्य पुल निर्माण निगम की तरफ से अज्ञात लोगों पर मामला दर्ज कराया गया है। सभी पर काम में बाधा पहुंचाने का आरोप है। इस एफआईआर के बाद सवाल उठने शुरू हो गए हैं। कहा जा रहा है कि रोड टूटने के मामले में जहां ठेकेदार, कंपनी के खिलाफ मामला दर्ज होना चाहिए वहीं, इसके उलट आवाज उठाने वाले लोगों पर मामला दर्ज कराया जा रहा है।

गोपालगंज के बैकुंठपुर में एक महीने पहले जनता को समर्पित हुआ सत्ताघाट पुल का अप्रोच रोड बुधवार को ध्वस्त हो गया था। गार्डर पर गंडक नदी का दबाव बढ़ने से पुल बह गया। पुल के बह जाने से छपरा, सीवान के लोगों का पूर्वी चंपारण व मुजफ्फरपुर से संपर्क टूट गया है। अब लोगों को 35 से 40 किलोमीटर अधिक चक्कर लगाना पड़ रहा है। एनएच-28 पर वाहनों का दबाव बढ़ गया है।

अप्रोच रोड टूटने के बाद से ही बिहार की सियासत में जमकर हलचल है। राजद नेता तेजस्वी यादव ने जहां इस पर पथ निर्माण मंत्री का इस्तीफा लेने की मांग की है। वहीं, नंदकिशोर यादव ने कहा कि तेजस्वी के बयान पर सिर्फ हंसा जा सकता है। राजद समेत तमाम विपक्षी इस मुद्दे पर लगातार सरकार को घेर रहे हैं।

और पढ़ें
Next Story