Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पटना के 30 निजी अस्पतालों में भी होगा कोरोना वायरस का इलाज पर देना पड़ेगा शुल्क

बिहार की राजधानी पटना में तेजी से कोरोना संक्रमण फैल रहा है। जिसके बीच राहत की खबर है कि डीएम की पहल पर पटना के 30 निजी अस्पताल कोरोना मरीजों का इलाज करने के लिए तैयार हैं। हालांकि इन अस्पतालों में उपचार शुरू होने में एक से दो दिन का समय लगेगा। अस्पताल उपचार का शुल्क लेंगे पर ये तय नहीं हुआ है कितना। इस पर बातचीत चल रही है।

30 private hospitals in Patna will also have to pay fees for treatment of corona virus
X
प्रतीकात्मक तस्वीर

पटना के 30 बड़े निजी अस्पतालों में कोरोना मरीजों का इलाज होगा। ये अस्पताल अब कोरोना संक्रमित मरीजों को सरकारी अस्पतालों में रेफर नहीं करेंगे। डीएम की पहल पर इन अस्पताल के प्रबंधकों ने आवेदन दिया है। हालांकि पॉजिटिव मरीजों के उपचार के लिए इन्हें अलग से आइसोलेशन वार्ड बनाना पड़ेगा। जिसके तैयार होने में एक से दो दिन का वक्त लग सकता है। जिसके बाद पटना के 30 बड़े निजी अस्पतालों में कोरोना मरीजों का उपचार शुरू हो जाएगा।

डीएम कुमार रवि ने पटना शहर के सभी प्रमुख बड़े अस्पताल के संचालकों के साथ बैठक कर आइसोलेशन वार्ड बनाने को कहा है। दरअसल, लगातार शिकायत मिल रही थी कि प्राइवेट अस्पताल कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का उपचार नहीं कर रहे हैं क्योंकि उनके यहां ऐसी सुविधा नहीं है। इससे मरीजों को अधिक परेशानी हो रही थी। निजी अस्पताल में भर्ती यदि किसी मरीज में कोरोना की पुष्टि हो जाती थी तो प्राइवेट अस्पताल उसे सरकारी अस्पताल में रेफर कर देते थे।

इधर, सरकारी अस्पतालों में मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही थी। इसीलिए प्राइवेट अस्पतालों में भी यह सुविधा उपलब्ध कराई गई है। डीएम रवि ने प्राइवेट अस्पताल के संचालकों से कहा है कि अपने-अपने अस्पताल में अलग से आइसोलेशन वार्ड बनाएं तथा बेड की संख्या भी बढ़ाएं। इसके लिए प्रशासन को लिखित आवेदन दें ताकि उन्हें कोरोना से संक्रमित मरीजों के उपचार से संबंधित अनुमति प्रदान की जा सके या ऐसे प्राइवेट अस्पतालों की सूची बनाई जा सके।

डीएम रवि की पहल पर शहर के 30 अस्पतालों ने कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों के उपचार करने का निर्णय लिया है। इस संबंध में अस्पताल संचालकों की ओर से प्रशासन को आवेदन भी दिया गया है। अस्पताल संचालकों का कहना है कि आइसोलेशन वार्ड व बेड की सुविधा उपलब्ध कराने के बाद जल्द ही कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों का उपचार शुरू कर देंगे।

हालांकि प्राइवेट अस्पतालों में लोगों का मुफ्त में उपचार नहीं होगा लेकिन प्रशासन ने किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होने का निर्देश दिया है। हालांकि अभी यह तय नहीं हुआ है कि कोरोना वायरस से पॉजिटिव मरीजों के उपचार में आमतौर पर कितना खर्च आयेगा पर इस विषय पर जिला प्रशासन अस्पताल संचालकों के साथ बातचीत कर रहा है। ताकि न्यूनतम खर्च पर मरीजों का उपचार हो सके।

Next Story