Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

यूपी पंचायत चुनाव के दावेदार ने दी 'मौत की दावत', प्रतापगढ़ में सगे भाइयों समेत छह लोगों की मौत

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कटरिया गांव में ग्राम प्रधान चुनाव लडने की तैयारी कर रहे शख्स ने ग्रामीणों के लिए दावत का आयोजन किया था। आरोप है कि इस दावत में अवैध शराब भी परोसी गई, जिससे अब तक छह लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं तीन की हालत गंभीर बनी है। मामले में संबंधित थाना प्रभारी को निलंबित कर जांच के आदेश दिए गए हैं।

यूपी पंचायत चुनाव के दावेदार ने दी मौत की दावत, प्रतापगढ़ में सगे भाइयों समेत सात लोगों की मौत
X

प्रतीकात्मक तस्वीर। 

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले से एक बड़ी घटना सामने आ रही है। यहां ग्राम प्रधान चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे एक शख्स ने ऐसी दावत दी, जिसमें शामिल सगे भाइयों समेत सात लोगों की मौत हो गई। घटना सामने आते ही पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों में भी हड़कंप मच गया। मामले में संबंधित थानाध्यक्ष को निलंबित कर दिया गया है। मौत का कारण जहरीली शराब का सेवन बताया जा रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कटरिया गांव में ग्राम प्रधान चुनाव लडने की तैयारी कर रहे शख्स ने ग्रामीणों के लिए मंगलवार की रात दावत का आयोजन किया था। इस दावत में अवैध शराब भी परोसी गई। शराब पीने के बाद ही लोगों की हालत बिगड़ने लगी। आनन-फानन में उन्हें सांगीपुर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां से कई लोगों को रेफर कर दिया गया। 45 वर्षीय रामपाल सरोज को सीएचसी सांगीपुर में ही मृत घोषित कर दिया गया।

रायबरेली अस्पताल ले जाए गए सगे भाइयों 50 वर्षीय दलीप कोरी और 35 वर्षीय प्रदीप कोरी ने भी उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। अमेठी के मुंशीगंज अस्पताल में भर्ती 50 साल के सिद्धनाथ भी जिंदगी और मौत की जंग हार गए। सिद्धनाथ इस घटना में दम तोड़ने वाले सगे भाइयों के मामा थे। इसी प्रकार अमेठी जिला अस्पताल में भर्ती 45 वर्षीय राजकुमार की बुधवार सुबह और असैदापुर गौरीगंज के जिला अस्पताल में भर्ती 35 वर्षीय राममिलन कोरी की शाम को मौत हो गई। दावत में शामिल ओमप्रकाश और उनके पिता शिवचरन के अलावा धर्मेंद्र सिंह अभी भी मौत से जंग लड़ रहे हैं।

थाना प्रभारी को किया निलंबित

घटना सामने आते ही पुलिस विभाग और जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में तमाम वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली। एडीजी जोन प्रयागराज प्रेमप्रकाश, डीएम डॉक्टर नितिन बंसल, एसपी आकाश तोमर और एडीएम शत्रोहन वैश्य ने पीड़ित परिवारों का हाल जाना और न्याय का भरोसा दिलाया। संबंधित थाना प्रभारी राकेश कुमार को निलंबित कर दिया गया है। एसपी आकाश तोमर का कहना है कि मामले में जो भी आरोपी हैं, उन्ह बख्शा नहीं जाएगा। जल्द सभी आरोपी पुलिस की गिरफ्त में होंगे।

ये भी पढ़ें : प्रतापगढ़ में नहीं थम रहा जहरीली शराब का कहर, अब चार लोगों की मौत, योगी सरकार ने लिया ये एक्शन

Next Story