Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

महापंचायत में गुर्जरों ने चेताया- मांगें नहीं मानी गईं तो एक नवंबर से होगा आंदोलन

गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला के नेतृत्व में राजस्थान के भरतपुर में शनिवार को एक महापंचायत बुलाई गई, जिसमें गुर्जर नेताओं ने अपना शक्ति प्रदर्शन करते हुए सरकार को अल्टीमेटम दिया है कि अगर उनकी मांगें पूरी नहीं की गईं तो गुर्जर समुदाय 1 नवंबर को पूरे प्रदेश में आंदोलन की शुरुआत की जाएगी।

महापंचायत में गुर्जरों ने चेताया- मांगें नहीं मानी गईं तो एक नवंबर से होगा आंदोलन
X

गुर्जरों की महापंचायत

भरतपुर।गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला के नेतृत्व में राजस्थान के भरतपुर में शनिवार को एक महापंचायत बुलाई गई, जिसमें गुर्जर नेताओं ने अपना शक्ति प्रदर्शन करते हुए सरकार को अल्टीमेटम दिया है कि अगर उनकी मांगें पूरी नहीं की गईं तो गुर्जर समुदाय 1 नवंबर को पूरे प्रदेश में आंदोलन की शुरुआत की जाएगी।

गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला ने महापंचायत में स्पष्ट चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार ने राजस्थान में गुर्जरों सहित पांच अन्य पिछड़े वर्गों (एमबीसी) को दिए गए पांच प्रतिशत आरक्षण को संवैधानिक संरक्षण न दिया तो बड़ा आंदोलन किया जाएगा। महापंचायत के बाद सभी गुर्जर नेता घर लौट गए। इस मांग के अलावा महापंचायत में इससे पहले के आंदोलन के दौरान शहीद हुए लोगों को नौकरी और मुआवजा देने, गुर्जरों के लिए लागू देवनारायण योजना को सही तरीके से लागू करने और गुर्जर आंदोलनकारियों पर दर्ज मामले वापस लेने की भी मांग की गई।

गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने कहा कि समाज का युवा वर्ग तैयार है, लेकिन इस समय फसल कटाई का समय है, इसलिए अब आंदोलन एक नवंबर से वापस शुरू होगा और पूरे प्रदेश में आंदोलन होगा। बैंसला ने इससे पहले मंच से आंदोलन शुरू करने को लेकर चर्चा की और सहमति मांगी। जिस पर फसल कटाई का समय होना बताया।

इस पर कर्नल ने वार्ता करने के बाद आंदोलन का आगाज एक नवंबर से शुरू करने का एलान किया। इससे पहले महापंचायत को कर्नल के पुत्र विजय बैंसला, कैप्टन हरप्रसाद, कैप्टन जगप्रसाद, अतर सिंह एडवोकेट, भूरा भगत, राजाराम अड्डा व पूर्व मंत्री विश्वेंद्र सिंह के पुत्र अनिरुद्ध सिंह ने संबोधित किया।

गुर्जरों ने महापंचायत में एकजुट होकर अपनी शक्ति का मुजाहिरा किया। वहीं प्रशासन ने भी इस महापंचायत को लेकर इंतिजामों में कोई ढील नहीं दी। गुर्जरों कि इस महापंचायत में करीब ढाई हजार लोग इकठ्ठा हुए थे, जबकि गुर्जर नेताओं की उम्मीद थी कि इस महापंचायत में 20 हजार लोग जमा होंगे। सूत्र कम भीड़ इकट्ठा होने की वजह गुर्जर नेताओं में आपसी फूट बता रहे हैं। महापंचायत को देखते हुए जिला प्रशासन ने पहले ही ऐहतियातन इंटरनेट सेवा बंद कर दी थी, जिसे आज बहाल होने की संभावना है। किरोड़ी सिंह बैंसला ने घोषणा करते हुए कहा कि हम लोग शांति चाहते हैं लेकिन सरकार भी समझ ले कि हमारी मांगों को पूरा करने के लिए जल्दी ही सकारात्मक विचार करे अन्यथा आंदोलन होकर ही रहेगा।

Next Story