Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कृषि विधेयकों के खिलाफ मोगा में ट्रैक्टर रैली का नेतृत्व करने पंजाब पहुंचे राहुल गांधी

कांग्रेस नेता राहुल गांधी केंद्र द्वारा लागू नये कृषि कानूनों के खिलाफ मोगा में रविवार को आयोजित ट्रैक्टर रैली का नेतृत्व करेंगे। राहुल गांधी रविवार दोपहर मोगा पहुंचे। वह आज से शुरू हो रही तीन दिवसीय ट्रैक्टर रैलियों का नेतृत्व करेंगे।

Viral Video: राहुल गांधी बोले - कायर प्रधानमंत्री कहता है कि किसी ने हमारी जमीन नहीं हड़पी, हम सत्ता में होते तो चीन को 15 मिनट में बाहर फेंक देते
X
Viral Video: राहुल गांधी बोले - कायर प्रधानमंत्री कहता है कि किसी ने हमारी जमीन नहीं हड़पी, हम सत्ता में होते तो चीन को 15 मिनट में बाहर फेंक देते

मोगा (पंजाब)। कांग्रेस नेता राहुल गांधी केंद्र द्वारा लागू नये कृषि कानूनों के खिलाफ मोगा में रविवार को आयोजित ट्रैक्टर रैली का नेतृत्व करेंगे। राहुल गांधी रविवार दोपहर मोगा पहुंचे। वह आज से शुरू हो रही तीन दिवसीय ट्रैक्टर रैलियों का नेतृत्व करेंगे। मोगा के बदनी कलां में वह जनसभा को भी संबोधित करेंगे।

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, कांग्रेस महासचिव एवं पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश रावत, पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़, राज्य के वित्तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल और अन्य नेता भी रैली में शामिल होने के लिए मोगा पहुंचे। राज्य के पूर्व मंत्री और विधायक नवजोत सिंह सिद्धू भी मोगा में हैं, जो पिछले कुछ समय से कांग्रेस की सभी गतविधियों से दूरी बनाकर चल रहे थे। 'खेती बचाओ यात्रा' के नाम से निकाली जा रही ट्रैक्टर रैलियां करीब 50 किलोमीटर से अधिक दूरी तय करेगी और विभिन्न जिलों तथा निर्वाचन क्षेत्रों से गुजरेंगी।

उल्लेखनीय है कि नये कृषि कानूनों का पंजाब के किसान विरोध कर रहे हैं। किसानों को आशंका है कि केंद्र द्वारा किए जा रहे कृषि सुधार से न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को समाप्त करने का रास्ता साफ होगा और वे बड़ी कंपनियों की 'दया' पर आश्रित रह जाएंगे।

हालांकि, सरकार का कहना है कि एमएसपी प्रणाली में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा। गौरतलब है कि संसद ने हाल में तीन विधेयकों- 'कृषक उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) विधेयक-2020', 'किसान (सशक्तीकरण और संरक्षण) मूल्य आश्वासन' अनुबंध एवं कृषि सेवाएं विधेयक 2020 और 'आवश्यक वस्तु संशोधन विधेयक-2020' को पारित किया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मंजूरी के बाद तीनों कानून 27 सितंबर से प्रभावी हो गए।

Next Story