Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आईटीबीपी जवानों ने फतेह की लियो पारगिल, भारत-तिब्बत सीमा से निकले थे जवान

भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल के जवानों ने 22,222 फुट की ऊंचाई पर स्थित लियो पारगिल की चोटी पर सफलतापूर्वक तिरंगा फहराया है। यह चोटी हिमाचल प्रदेश के तीसरी सबसे ऊंची चोटी है। कोरोना काल में यह पहला माउंट एक्पीडिशन था, जिसे अंजाम दिया गया है।

आईटीबीपी जवानों ने फतेह की लियो पारगिल, भारत-तिब्बत सीमा से निकले थे जवान
X
आईटीबीपी जवानों ने फतेह की लियो पारगिल

भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल के जवानों ने 22,222 फुट की ऊंचाई पर स्थित लियो पारगिल की चोटी पर सफलतापूर्वक तिरंगा फहराया है। यह चोटी हिमाचल प्रदेश के तीसरी सबसे ऊंची चोटी है। कोरोना काल में यह पहला माउंट एक्पीडिशन था, जिसे अंजाम दिया गया है। आईटीबीपी पर्वतारोही दल ने उप-सेनानी जी.डी. कुलदीप सिंह के नेतृत्व में कांस्टेबल प्रदीप नेगी, काको केदारता, अनील नेगी व आशीष नेगी ने 31 अगस्त, 2020 को लियो पारगिल चोटी फतेह की, जबकि इसी टीम के दूसरे पर्वतारोही दल ने एक सितम्बर, 2020 को साढ़े ग्याहर बजे धर्मेन्द्र ठाकुर के नेतृत्व में सात सदस्यों ने लियो पारगिल पर फतेह हासिल की।

आईटीबीपी के 17वीं वाहिनी के कमान्डेन्ट देवेन्द्र कुमार ने बताया कि 20 अगस्त, 2020 को क्षेत्रीय मुख्यालय शिमला के उप-महानिरीक्षक प्रेम सिंह ने 17वीं वाहिनी भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल के प्रांगण से पर्वतारोही दल को 'लियो पारगिल चोटी योद्धा-2020' को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था।

प्रथम पर्वतारोही दल के मुखिया प्रदीप नेगी द्वारा इस चोटी पर दूसरी बार सफलतापूर्वक आरोहण किया गया है। इन्होंने इससे पूर्व, विश्व की सबसे ऊंची चोटी मांऊट एवरेस्ट को भी दो बार फतेह किया है। आईटीबीपी के जवानों की ओर से अभी तक 200 से अधिक पर्वत चोटियों पर सफलतापूर्वक आरोहण किया जा चुका है, जिनमें मांऊट एवरेस्ट, मांऊट धौलागिरी, कंचन जंघा, नन्दा देवी, पंचाचूली जैसी पर्वत चोटियां शामिल हैं।

कमान्डेन्ट देवेन्द्र कुमार ने कहा कि यह अभियान वैश्विक महामारी कोविड-19 के चलते और भी कठिन था, लेकिन समस्त कठिनाइयों को पार करते हुए दल ने लियो पारगिल चोटी का सफलतापूर्वक चढ़ाई की है। यह उत्तरी भारत में इस वर्ष का प्रथम सफलतापूर्वक पर्वतारोहण अभियान है।16 सदस्यीय दोनों टीमों के 12 सदस्यों ने इस चढ़ाई को सफलतापूर्वक अंजाम दिया।

Next Story