Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

यमुना का जलस्तर बढ़ा, हथिनी कुंड से छोड़ा एक लाख 60 हजार क्यूसिक पानी, दिल्ली को किया अलर्ट

हथनीकुंड बैराज सूत्रों की मानें तो अभी पहाड़ी इलाकों में बारिश जारी रहने से यमुना नदी का जलस्तर घट-बढ़ रहा है। यदि पहाड़ी इलाकों में तेज बारिश जारी रही तो यमुना नदी उफान पर पहुंच सकती है। फिलहाल यमुना नदी खतरे के निशान से नीचे बह रही है।

यमुना का जलस्तर बढ़ा, हथिनी कुंड से छोड़ा एक लाख 60 हजार क्यूसिक पानी, दिल्ली को किया अलर्ट
X

यमुनानगर के हथनीकुंड बैराज से यमुना नदी में छोड़ा गया पानी।

हरिभूमि न्यूज. यमुनानगर

पहाड़ी इलाकों में बुधवार तड़के हुई मूसलाधार बारिश से बुधवार को हथनी कुंड बैराज से यमुना नदी में एक लाख 60 हजार क्यूसिक पानी छोड़ा गया है। जिससे यमुना नदी के उफान पर आने की आशंका बन गई है। प्रशासन ने यमुना नदी के साथ लगते बाढ़ ग्रस्त इलाकों व दिल्ली प्रशासन को अलर्ट कर दिया है। हथनीकुंड बैराज सूत्रों की मानें तो अभी पहाड़ी इलाकों में बारिश जारी रहने से यमुना नदी का जलस्तर घट-बढ़ रहा है। यदि पहाड़ी इलाकों में तेज बारिश जारी रही तो यमुना नदी उफान पर पहुंच सकती है। फिलहाल यमुना नदी खतरे के निशान से नीचे बह रही है।

जानकारी के मुताबिक बुधवार तड़के दो बजे से ही यमुना नदी के कैचमेंट एरिया व पहाड़ी इलाकों में बारिश शुरु हो गई थी। सुबह करीब नौ बजे पहाड़ी इलाकों में मूसलाधार बारिश होने से हथनी कुंड बैराज में पानी की मात्रा बढ़ गई। जिसके बाद दोपहर बारह बजे के करीब हथनी कुंड बैराज से यमुना नदी में पहले एक लाख 32 हजार 314 क्यूसिक पानी छोड़ा गया। इसके बाद दोपहर एक बजे यमुना नदी में एक लाख 60 हजार क्यूसिक पानी छोड़ा गया। जिसके बाद यमुना नदी में जलस्तर बढ़ गया। नदी में जलस्तर बढ़ने से प्रशासन अलर्ट हो गया और नदी के साथ लगते बाढ़ ग्रस्त इलाकों व दिल्ली प्रशासन को अलर्ट कर दिया गया। प्रशासनिक सूत्रों की मानें तो हथनी कुंड बैराज से छोड़ा गया एक लाख 60 हजार क्यूसिक पानी अगले 72 घंटे में दिल्ली तक पहुंचकर नीचले इलाकों में तबाही मचा सकता है।

हथनी कुंड बैराज के सूत्रों की मानें तो बुधवार दोपहर बाद पहाड़ी इलाकों में बारिश थमने पर यमुना नदी का जलस्तर घटने लगा है। शाम चार बजे तक यमुना नदी का जलस्तर घटकर एक लाख 20 हजार क्यूसिक रह गया था। सूत्रों के मुताबिक यदि बारिश बंद रही तो यमुना नदी का जलस्तर और घट सकता है।

हथनी कुंड बैराज के सिंचाई विभाग के एसडीओ धर्मपाल का कहना है कि पहाड़ी इलाकों में तेज बारिश होने पर यमुना नदी में जलस्तर बढ़ा है। अभी नदी के कैचमेंट एरिया में बारिश थमने पर नदी का जलस्तर घटने लगा है। मगर अभी भी बादल छाए हुए हैं। यदि दोबारा तेज बारिश हुई तो फिर से नदी का जलस्तर बढ़ सकता है। मगर अभी कोई चिंता करने वाली बात नहीं है। नदी अपने खतरे के निशान से नीचे बह रही है।

Next Story