Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बहादुरगढ़ : एक दिन छोड़कर आएगा पानी, सप्लाई के समय में भी होगी कटौती

सिंचाई विभाग ने बीडब्ल्यूएस में पानी डालने पर रोक लगा दी। पानी की कमी के कारण जलघर के टैंक सूख रहे हैं। यही वजह है कि विभाग द्वारा सप्लाई के समय में थोड़ा बदलाव किया गया है।

बहादुरगढ़ : एक दिन छोड़कर आएगा पानी, सप्लाई के समय में भी होगी कटौती
X

प्रतीकात्मक फोटो

हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़

शहर में पेयजल किल्लत की समस्या से निपटने के लिए जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग अपनी तरफ से प्रयास कर रहा है, लेकिन प्रयास सिरे नहीं चढ़ पा रहे। हाल ही में विभाग द्वारा सिंचाई माइनर से बीडब्ल्यूएस में पानी डालने के लिए जो मोटर लगाई गई थी, वे भी चालू नहीं हो सकी। सिंचाई विभाग ने बीडब्ल्यूएस में पानी डालने पर रोक लगा दी। पानी की कमी के कारण जलघर के टैंक सूख रहे हैं। यही वजह है कि विभाग द्वारा सप्लाई के समय में थोड़ा बदलाव किया गया है। हालांकि पानी एक दिन छोड़कर ही आएगा, लेकिन समय में पांच से दस मिनट की कटौती की जाएगी। विभाग के अधिकारियों ने शहवासियों से जरूरत के अनुसार ही पानी का इस्तेमाल करने की अपील की है।

दरअसल, बहादुरगढ़ वाटर सर्विस चैनल से शहर के जलघराें तक पानी पहुंचता है। काफी पुरानी हो जाने के कारण इस चैनल की हालत जर्जर हो चुकी है। साल भर में यह कई बार टूट जाती है। इस वजह से इसमें क्षमता से कम पानी छोड़ा जाता है। इधर, शहर की आबादी दिनोंदिन बढ़ी है। जिससे पानी की खपत बढ़ी है लेकिन जलघरांे में सप्लाई कम हो गई है। इस वजह से जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की परेशानी बढ़ी रहती है। इन दिनों किसान आंदोलनकारी भी आए हुए हैं, जिस कारण खपत और ज्यादा बढ़ गई है। पानी की कमी के कारण विभाग की ओर से फिलहाल सप्लाई एक दिन छोड़कर कर की जाती है।

शहर में पेयजल की समस्या गंभीर न हो, इसके लिए जनस्वास्थ्य विभाग ने पिछले दिनों एक योजना बनाई। इस योजना के तहत सिंचाई माइनर में मोटर लगाकर उसका पानी साथ से गुजर रही बीडब्लयूएस में डालना था। इसके लिए विभाग ने बिजली निगम से कनेक्शन लेने की प्रक्रिया शुरू की। लेकिन विभाग की योजना धरी की धरी रह गई, क्योंकि नहरी विभाग ने आपत्ति जताई और बीडब्ल्यूएस में पानी डालने की मंजूरी नहीं दी। जवाब दिया गया कि इस माइनर की मरम्मत की जानी है। अब हालात ये हैं कि जलघर के टैंक खाली हो रहे हैं। रॉ वाटर का स्टॉक खत्म हो रहा है। हालांकि विभाग के अधिकारी समस्या का हल करने के लिए हाथ पांव मार रहे हैं। इसके साथ ही विभाग ने फिलहाल पानी की सप्लाई में कटौती करने का निर्णय लिया है। शेड्यूल के अनुसार, एक दिन छोड़कर ही पानी दिया जाएगा, लेकिन सप्लाई के समय में पांच से दस मिनट कटौती की जाएगी।

उधर, जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के एसडीई अनिल रोहिल्ला ने कहा कि माइनर से पानी कम आने के कारण दिक्कत हो रही है। पानी की कमी जरूर है लेकिन लोगांे को घबराने की जरूरत नहीं है। पानी पहले की तरह ही आएगा, बस पांच से दस मिनट सप्लाई कम रहेगी। सर्दियों मंे वैसे भी पानी की खपत कम होती है। आमजन भी व्यवस्था बनाने में सहयोग करें। जरूरत के अनुसार ही पानी का इस्तेमाल करें। पानी को व्यर्थ न बहने दें।

-


और पढ़ें
Next Story