Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बजट सत्र : 'बहिष्कार' पर हंगामा, भाजपा के निंदा प्रस्ताव पर कांग्रेस का वाकआउट

सदन में देर शाम को संपत्ति क्षति वसूली विधेयक लाने के वक्त भी विपक्ष कांग्रेस की ओर से जमकर हंगामा व शोरगुल कर कार्यवाही को बाधित रखा गया। उक्त बिल को गृहमंत्री अनिल विज ने पेश किया, जिसको बहुमत के साथ में पास कर दिया गया।

बजट सत्र : बहिष्कार पर हंगामा, भाजपा के निंदा प्रस्ताव पर कांग्रेस का वाकआउट
X

विधानसभा के बजट सत्र (फाइल फोटो)

बजट सत्र के छटे दिन हरियाणा विधानसभा में मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने किसान आंदोलन में पर्दे के पीछे साजिश रचने के लिए कांग्रेस को पूरी तरह से जिम्मेदार ठहराया और कहा चुने हुए जनप्रतिनिधियों का इलाकों में विरोध करना लोकतंत्र की हत्या वाली बात है। उन्होने इस तरह के काम करने वाले तत्वों के विरुद्ध सदन में निंदा प्रस्ताव पारित करने के लिए रखा, सत्तापक्ष की ओऱ से इसका स्वागत करते हुए इसे पारित कर दिया गया। दूसरी ओर, नेता विपक्ष के नेतृत्व में कांग्रेस विधायकों ने शोरगुल करते हुए वाकआउट किया। सदन में देर शाम को संपत्ति क्षति वसूली विधेयक लाने के वक्त भी विपक्ष कांग्रेस की ओर से जमकर हंगामा व शोरगुल कर कार्यवाही को बाधित रखा गया। उक्त बिल को गृहमंत्री अनिल विज ने पेश किया, जिसको बहुमत के साथ में पास कर दिया गया। सोमवार को पांच विधेयक सदन में पारित कर दिए गए जबकि तीन बिलों को पेश किया गया। इन पर मंगलवार को भी चर्चा होगी।

हरियाणा विधानसभा बजट सत्र के छठे दिन दोपहर दो बजे सदन की कार्यवाही की शुरुआत हुई। सोमवार को सत्ता पक्ष की तरफ से सदन के नेता मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किसानों आंदोलन के पीछे ताकतों को कहा कि यह एक गलत परंपरा है। इस तरह के लोगों को लोकतंत्र का हत्यारा ही कहा जाएगा। कांग्रेस ने नेता विपक्ष और पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व में शोरगुल करते हुए वाकआउट कर गए व तुरंत ही वापस आ गए। सोमवार को हरियाणा के बजट पर चर्चा की शुरुआत हुई। प्रश्नकाल की समाप्ति के बाद में सत्ता पक्ष की ओर से विधायकों ने इसको बेहद कल्याणकारी और हर वर्ग का हितैषी बजट बताया तो वहीं विपक्ष की तरफ से इस बजट की जमकर आलोचना की गई।

देर शाम को अंतिम चरण की कार्यवाही के दौरान एक बार फिर से किसान आंदोलन का मुद्दा छिड़ गया। मुख्यमंत्री मनोहर लाल किसान आंदोलन के पीछे सीधे सीधे कांग्रेस के कुछ नेताओं को जिम्मेदार ठहराया व कहा कि नुमाइंदो को गांव में नहीं घुसने देने की घटना एक तरह का षडयंत हैं। लेकिन ये लोकतंत्र के लिए उचित नहीं है यह तो एक तरह से लोकतंत्र की हत्या बताते हुए कहा कि पर्दे के पीछे काम कर रहे कांग्रेस नेताओं को इसके भविष्य में अंजाम भुगतने होंगे। सीएम ने दोहराया कि उनके विनम्रता को उनकी कमजोरी नहीं समझा जाए।

सोमवार को दोपहर दो बजे हरियाणा के बजट सत्र छठे दिन और सातवीं सिटिंग थी। सबसे पहले एक घंटा प्रश्नकाल चला। इस दौरान सत्तापक्ष व विपक्ष के लोग अपने हलकों को मुद्दों को उठाया। जिस पर संबंधित विभाग के मंत्रियों ने जवाब दिए। इस दौरान सबसे ज्यादा प्रश्नों के जवाब हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने दिए।

बजट सत्र के दौरान सोमवार को एक बार किसान आंदोलन और किसानों की मृत्यु का मामला गूंजा। इस दौरान जमकर बवाल हुआ। सदन के नेता मनोहर लाल ने इस दौरान जमकर विपक्ष पर हमला बोला और अंबाला शहर विधायक असीम गोयल ने उनके घर पर प्रदर्शन व अभद्र व्यवहार समेत गाली गलौच की घटना अंबाला शहर में होने की जानकारी दी। गोयल ने भी कहा कि जेएनयू की घटना व किसान आंदोलन के नाम पर देशद्रोह के लिए उकसाने वालों के विरुद्ध आवाज उठाने का काम किया था। इसीलिए अंबाला शहर में उनके घर के सामने कुछ लोगों ने एक साजिश के तहत प्रदर्शन कर उनको और परिवार को गाली गलौज करने का काम किया है।इस पर सदन में हंगामा खड़ा हो गया। स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने शोरगुल और हंगामे के बीच में चेयर से उठकर कांग्रेसियों को बैठाया।

डिप्टी सीएम और नैना चौटाला रहे गैरहाजिर

सोमवार को सदन में डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला और उनकी मां व विधायक नैना चौटाला नहीं थे। हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने निजी पारिवारिक समारोह में जाने के कारण गैरहाजिर रहने की जानाकरी दी। इन्हें किसी विवाह समारोह में शामिल होने था जिसके चलते वो सदन की कार्यवाही में शिरकत नहीं कर सकी ।

कांग्रेस ने सदन का वॉकआउट किया

कांग्रेस ने सोमवार को जिस वक्त किसान आंदोलन को उकसाने व नेताओं को गांवों में घुसने से रोकने के विरुद्ध निंदा प्रस्ताव सरकार की ओऱ से लाया जा रहा था। इस दौरान कांग्रेस की ओऱ से कुछ देरी के लिए सदन का बायकाट किया। सत्ताधारी पक्ष की तरफ से कहा कि विपक्ष के लोग किसानों उकसा रहे हैं।

निंदा प्रस्ताव के विरोध में, हमारा कोई लेना देना नहीं

नेता प्रतिपक्ष हुड्डा ने कहा कि उपरोक्त प्रस्ताव से हमारा कोई लेना देना नहीं है। ऐसे में सीएम से निवेदन है कि वो इस प्रस्ताव को वापस लें। शोरगुल व हंगामा करने वाले कांग्रेसी विधायकों को बार बार ज्ञानचंद गुप्ता ने कईं बार समझाकरक शांत किया।

गौतम ने अपनी ही ही सरकार को घेरा

नारनौंद के विधायक रामकुमार गौतम एक बार फिर से आक्रामक नजर आए। गौतम ने इस दौरान अपनी सरकार पर हमला बोला। गौतम ने अपने इलाके की कुछ समस्याएं भी उठाईं साथ ही इशारों ही इशारों पर जजपा सुप्रीमों डिप्टी सीएम पर हमला भी बोला। गौतम ने शुरुआती दौर में नेता प्रतिपतक्ष हुड्डा सरकार के कार्यकाल में हुए अच्छे कार्यों के लिए प्रशंसा की। जबकि कुछ मामलों में क्षेत्रवाद और भेदभाव करने के लिए आलोचना भी की। गौतम ने सरकार को कुछ सुझाव भी दिए और 75 फीसदी हरियाणा के युवाओं को आरक्षण दिए जाने की परंपरा को गलत बताया व कहा कि पूरा देश एक है, इसीलिए इस तरह के कानून बनाने की परंपरा ठीक नहीं हैं। गौतम ने कहा कि यहां के युवाओं को दक्षिण में जाकर काम करना चाहिए। इसके अलावा उधर के युवाओं को हरियाणा् पंजाब में काम करने का मौका दिया जाना चाहिए। गौतम ने सीएम की भूरि-भूरि प्रशंसा की व कहा कि पूर्व सीएम हुड्डा ने भी अपने समय में नारनौंद को भी उस समय सीएम रहते हुए 10 करोड़ की ग्रांट दी। गौतम ने कहा कि हिसार में परिवहन में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है। जहां तक 20 हजार ईडबल्यूएस कोटे के 20 हजार मकान बनाने का जो भी प्रस्ताव है, उसमें सीधा पैसा मकान बनाने के लिए लोगों को दिया जाना चाहिए क्योंकि अधिकारी व कर्मचारी इस काम को करेंगे, तो इसमें करप्शन होगा।गौतम ने कहा कि किसान आंदोलन का समाप्त होना चाहिए और इसका कोई ना कोई ठोस समाधान होना चाहिए।

किरण चौधरी ने भी घेरा सरकार को

कांग्रेस की किरण चौधरी ने बजट पर चर्चा को बोलते हुए सरकार को कई मसलों पर सरकार को घेरा। उन्होंने कहा कि बजट के आंकड़े गुमराह करने वाले हैं। पीएम बीमा योजना के आंकडों में भी अंतर है। साथ ही सरकार सवैंधानिक को पूरा नहीं किया है। सरकार श्वेत पत्र लाए कि कितनी रकम कब व कहां खर्च हुई है। किसानों की सब्सिडी 6 हजार से घटाकर 5 हजार करोड़ कर दी है।


Next Story