Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जींद : नैक टीम ने राजकीय महाविद्यालय में जांची व्यवस्थाएं

निरीक्षण के दौरान उन्होंने विभागों, जिम, खेल ग्राऊंड आदि काफी जगहों पर मौके का मुआयना किया। इसके साथ ही उन्होंने महाविद्यालय से पास आउट हो चुके विद्यार्थियों और वर्तमान छात्रों से फेस टू फेस संवाद किया।

जींद : नैक टीम ने राजकीय महाविद्यालय में जांची व्यवस्थाएं
X

  राजकीय महाविद्यालय में नैक टीम।  

हरिभूमि न्यूज. जींद

राजकीय महाविद्यालय में मंगलवार को राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद (नैक) की टीम ने अपना निरीक्षण शुरू किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने विभागों, जिम, खेल ग्राऊंड आदि काफी जगहों पर मौके का मुआयना किया। इसके साथ ही उन्होंने महाविद्यालय से पास आउट हो चुके विद्यार्थियों और वर्तमान छात्रों से फेस टू फेस संवाद किया।

छात्रों से महाविद्यालय में मिल रही सुविधाओं और पढ़ाई से संबंधित जानकारी हासिल की। वहीं यह भी जानने का प्रयास किया गया कि सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेने से पहले कॉलेज प्रबंधन द्वारा कितने सेमिनार में भाग लिया गया और इनमें स्टाफ की क्या भूमिका रही। कितने रिसर्च प्रोजेक्ट आए। प्लेसमेंट का रिकार्ड कैसा है। अकेडमिक काउंसिल और कार्यपरिषद की बैठकें कब-कब हुईं। वित्तीय पारदर्शिता है या नहीं। यूनिवर्सिटी द्वारा बनाए गए सिलेबस को कॉलेज द्वारा किस तरह से बच्चों के सामने परोसा जा रहा है। इन सबकी भी जानकारी भी हासिल की। इनके अलावा कॉलेज में इंफ्रास्ट्रक्चर किस प्रकार का है। कितनी कंप्यूटर लैब हैं और इनमें कितने कंप्यूटर बच्चों के लिए तथा कितने टीचर्स के लिए हैं। लाइब्रेरी की व्यवस्था कैसी है। खेल ग्राउंड की स्थिति कैसी है। विद्यार्थियों के लिए और क्या-क्या सुविधाएं हैं, इन सब पहलुओं का भी निरीक्षण किया।

वहीं मंगलवार देर शाम नैक की टीम के सामने हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम कालेज के ही कलाकारों द्वारा प्रस्तुत किए गए। इन कलाकारों ने एक से एक बेहतरीन प्रस्तुति टीम के सामने दिखाई और टीम सदस्यों का मन मोह लिया। सांस्कृतिक कार्यक्रम के शुरूआत में कालेज के साहिल बाजवान ने सिली-सिली बाल में एक छोरी हारी गाल में हरियाणवी गीत पर एकल नृत्य की प्रस्तुति दी। इसके बाद कालेज के ही दो कलाकार रमन और चांदनी की जोड़ी ने मारूंगा रे सुसरी कै मारूंगा घने हरियाणवी गीत पर समूह नृत्य की प्रस्तुति सभी को तालियां बजाने पर मजबूर किया। वहीं ऑडियो संगीत के माध्यम से कलाकारों द्वारा योग की विभिन्न प्रकार की विधाएं भी दिखाई गई।

Next Story