Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

खुलासा : पुत्रवधू ने ही उतारा था सास को मौत के घाट

मूलत गांव कोथ कलां हाल आबाद गैस एजेंसी के पीछे रहने वाली रोशनी 60 की गत 18 मार्च को दिनदहाड़े चाकूओं से गोदकर हत्या कर दी गई थी।

खुलासा :  पुत्रवधू ने ही उतारा था सास को मौत के घाट
X

जींद : पुलिस की गिरफ्त में हत्या आरोपित पुत्रवधू।

हरिभूमि न्यूज : जींद

उचाना गैस एजेंसी के पीछे दस दिन पहले बुजुर्ग महिला की हत्या किसी और ने नही बल्कि उसकी पुत्रवधु ने चाकू और कैंची से गोदकर की थी। हत्या से पूर्व बुजुर्ग महिला को नशे की गोलियां दी गई थी। हत्या के पीछे मुख्य वजह सास द्वारा पति को हिस्से की जमीन दिलाने में पैरवी न करना रहा। उचाना थाना पुलिस ने पुत्रवधु को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया। जहां से अदालत ने आरोपित पुत्रवधु को एक दिन के रिमांड पर पुलिस को सौंप दिया।

मूलत गांव कोथ कलां हाल आबाद गैस एजेंसी के पीछे रहने वाली रोशनी 60 की गत 18 मार्च को दिनदहाड़े चाकूओं से गोदकर हत्या कर दी गई थी। मृतका के बेटे मनदीप की शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या तथा शस्त्र अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया था। पुलिस ने मामले की हर एंगल से जांच की तो मामला पुत्रवधु सुशीला पर आकर अटक गया। पुलिस ने सुशीला से सख्ती से पूछताछ की तो उसने सास रोशनी की हत्या की वारदात को स्वीकार कर लिया।

हिस्सा न मिलने से खफा थी सुशीला

मनदीप के पैदा होने के बाद उसके पिता की मौत हो गई थी। जिसके चलते मनदीप की मां रोशनी का करेपा जेठ जगबीर से कर दिया गया। जगबीर को पहले से एक बेटा तथा बेटी थी। मनदीप दिल्ली गेस्ट टीचर लगा हुआ है। जबकि सुशीला उचाना निजी स्कूल में पढ़ाती थी। रोशनी ने गांव स्थित कृषि योग्य जमीन में से मनदीपको हिस्सा देने से मना कर दिया था। जबकि सुशीला अपने पति मनदीप के लिए जमीन से हिस्सा मांग रही थी। उसी बात से खफा होकर सुशीला ने अपनी सास की हत्या कर दी।

डीएसपी जितेंद्र ने बताया कि बुजुर्ग महिला की हत्या उसकी पुत्रवधु ने की थी। जिसके पीछे उसके पति को जमीन से हिस्सा न देना रहा। आरोपित पुत्रवधु को गिरफ्तार कर अदालत से एक दिन के रिमांड पर लिया गया है। रिमांड के दौरान पुलिस हत्या से संबंधित तथ्यों को जुटाएगी।

सबूत नष्ट किए : रोशनी की हत्या की योजना सुशीला ने वारदात से एक पखवाड़ा पहले बना ली थी। पहले उसने बाजार से चाकू खरीदा, फिर चिकित्सक से लिखवाकर नशे की गोलियां लाई। 18 मार्च को पहले अपनी सास को नशे की दो गोलियां दी जिसके बाद अपनी चार वर्षीय बेटी को स्कूटी लेकर मायका छोड़ आई। वापस लौटने पर सास को और नशे की गोलियां दी, असर होने पर चाकू तथा कैंची से ताबड़तोड़ वार कर दिए। किसी को संदेह न हो इसके चलते घर में रखे सामान को अस्त व्यस्त कर दिया। फिर खून से सनी चादर, कैंची व चाकू को लेकर नरवाना पहुंच गई और उन्हें नहर में फेंक दिया। शाम को घर लौटकर सुशीला ने ही अपनी सास की हत्या की सूचना पड़ोसियों तथा पुलिस को दी और गुमराह करने का प्रयास किया।

Next Story