Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दुल्हन के सिर पर सेहरा..‍‍. और घोड़ी पर बैठा निकाला बनवारा, सर्वत्र हो रही चर्चा

ऐसा ही नजारा था भिवानी जिले के गांव गोपलवास में जहां घोड़ी पर बैठकर एक बेटी की शादी से पहले उसका बनवारा निकाला। लड़की के पिता ने बताया कि बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत उनकी तरफ से यह पहल की गई है ताकि लोग लड़कियों को मान-सम्मान दें।

दुल्हन के सिर पर सेहरा..‍‍. और घोड़ी पर बैठा निकाला बनवारा, सर्वत्र हो रही चर्चा
X

नीतू का बनवारा निकालते परिवारिक सदस्य।

हरिभूमि न्यूज : तोशाम ( भिवानी )

सिर पर सहेरा...... घोड़ी पर निकाला लड़की का बनवारा। घोड़ी पर दूल्हे की तरह सजी-धजी बैठी बेटी नीतू, ऐसा ही नजारा था भिवानी जिले के गांव गोपलवास में जहां घोड़ी पर बैठकर एक बेटी की शादी से पहले उनके बुआ के लड़के दिनेश कुमार ने बनवारा निकाला। गांव में लड़की नीतू का बनवारा घोड़ी पर निकलने पर सर्वत्र चर्चा हो रही है। गांव गोपलवास में नीतू की 22 नंवबर को शादी है। जिसका बनवारा लड़की ने घोड़ी पर बैठा कर गांव में बाजे-गाजे के साथ बनवारा निकाला। लड़की के पिता मास्टर बलबीर ने बताया कि बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत उनकी तरफ से यह पहल की गई है ताकि लोग समाज में लड़कियों को मान-सम्मान दें।

लड़का-लड़की में किसी प्रकार का भेदभाव नहीं है। लड़का लड़की एक समान है जो आज भेदभाव को दूर किया है। भिवानी क्षेत्र के गांव गोपलवास में देर रात को नीतू ने घोड़ी पर बनवारा निकालकर एक नई पहल की। जिसे देखने के लिए ग्रामीण इकट्ठे हुए। इस बहन की शादी 22 को होने वाली है। दहेज प्रथा व कन्या भ्रूण हत्या जैसी कुरीतियों को छोड़कर बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ का संदेश देते बेटी ने घोड़े पर बैठकर बाना निकाला। लड़की नीतू एमए की छात्रा है और राजस्थान के मखनी लुटाना गांव में दुल्हन बनकर जाना है। नीतू के पिता व माता का कहना है कि ससुराल में सास ससुर की सेवा, इज्जत करना पहली प्राथमिक है। उनकी सेवा करने से हमारा मन भी शांतिपूर्वक रहेगा।

Next Story