Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हरियाणा में सहकारी चीनी मिलों द्वारा तैयार गुड़ एवं शक्कर की बिक्री शुरू

इन चीनी मिलों द्वारा इलायची, सौंफ, काली मिर्च और हल्दी इत्यादि मिला कर मसाला गुड़ भी तैयार किया जा रहा है जो सेहत के लिए फायदेमंद होगा। तीनों सहकारी चीनी मिलें प्रतिदिन लगभग 100 से 150 क्विटंल गुड़ एवं शक्कर का उत्पादन करेंगी।

हरियाणा में सहकारी चीनी मिलों द्वारा तैयार गुड़ एवं शक्कर की बिक्री शुरू
X

हरियाणा के सहकारिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल ने कहा कि कैथल और पलवल सहकारी चीनी मिलों द्वारा तैयार उच्च गुणवत्ता वाले गुड़ एवं शक्कर की बिक्री की शुरुआत आज से हो गई है। उल्लेखनीय है कि विभाग द्वारा पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर तीन सहकारी चीनी मिलों महम,कैथल और पलवल में उच्च गुणवत्ता वाले गुड़ एवं शक्कर को तैयार करने का निर्णय लिया गया था तथा महम की शूगर मिल द्वारा गुड़ और शक्कर का उत्पादन व बिक्री पहले से ही शुरू कर दी गई थी। इन चीनी मिलों द्वारा इलायची, सौंफ, काली मिर्च और हल्दी इत्यादि मिला कर मसाला गुड़ भी तैयार किया जा रहा है जो सेहत के लिए फायदेमंद होगा। तीनों सहकारी चीनी मिलें प्रतिदिन लगभग 100 से 150 क्विटंल गुड़ एवं शक्कर का उत्पादन करेंगी।

उन्होंने कहा कि इस पायलट प्रोजेक्ट की सफलता के उपरांत प्रदेश की अन्य सहकारी चीनी मिलों में भी गुड़ एवं शक्कर का उत्पादन किया जाएगा। प्राथमिक तौर पर इस प्रकार के गुड़ की पैकिंग एक किलो के पाउच में होगी और इसमें तीन प्रकार के सादा, हल्दी व मसाला गुड़ उपलब्ध रहेगा। इसी प्रकार रिफाइन्ड शुगर की छोटी पैकिंग भी रोहतक सहकारी चीनी मिल द्वारा आम जन के लिए तैयार की जा रही है।उन्होंने बताया कि चीनी मिलों में चीनी बिक्री की प्रक्रिया में पारदर्शिता लाने के लिए तथा उच्चतर मूल्य प्राप्त करने के लिए जनवरी, 2021 से चीनी की बिक्री आनलाईन पोर्टल के माध्यम से शुरू कर दी गई है।

सहकारिता मन्त्री ने बताया कि किसानों की मांग को ध्यान में रखते हुए इस पिराई सत्र में चीनी मिलों को नवम्बर के प्रथम सप्ताह में शुरू किया गया। इसके अलावा, इस पिराई सत्र में चीनी मिलों द्वारा धन की उपलब्धता को ध्यान में रखते हुए लगातार भुगतान किया जा रहा है और अभी तक लगभग 150 करोड़ रूपए का भुगतान किया गया है। इसके अतिरिक्त हरियाणा सरकार द्वारा 66 करोड़ रूपए गन्ना सब्सिडी तथा 196 करोड़ रूपए का ऋण देने की प्रक्रिया चल रही है ।

इससे पूर्व शुगरफेड के अधिकारियों की एक समीक्षा बैठक में उन्होंने कहा कि शुगरफैड द्वारा संचालित हरियाणा की दस सहकारी चीनी मिलों ने वर्तमान पिराई सत्र 2020-21 में दिनांक 10.01.2021 तक कुल 140.85 लाख क्विटल गन्ने की पिराई करते हुए औसत चीनी रिकवरी 9.13 प्रतिशत के साथ 12.36 लाख क्विंटल चीनी का उत्पादन किया है। इसी प्रकार, असन्ध चीनी मिल ने वर्तमान पिराई सत्र 2020-21 में दिनांक 10.01.2021 तक कुल 13.65 लाख क्विटल गन्ने की पिराई करते हुए औसत चीनी रिकवरी 8.82 प्रतिशत के साथ 1.11 लाख क्विंटल चीनी का उत्पादन किया है। इसके अलावा, इस बैठक में चीनी मिलों की क्षमता बढ़ाने समेत कई मुद्दों पर भी चर्चा की गई ।उन्होंने यह भी बताया कि अटल मजदूर कैंटीन की शुरूआत भी सभी सरकारी शूगर मिलों में कर दी गई है जिनमें सस्ता व पौष्टिक आहार उपलब्ध करवाया जा रहा है। इस अवसर पर सहकारिता विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव कौशल और हरियाणा राज्य सहकारी चीनी मिल प्रसंघ लि. के प्रबंध निदेशक शक्ति सिंह भी उपस्थित रहे।

Next Story