Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना के नाम पर लूट : 50 हजार में बिक रहा 15 सौ रुपये का रेमडेसिविर इंजेक्शन

इस इंजेक्शन की बड़े लेवल पर हो रही ब्लैक मार्केटिंग से स्वास्थ्य विभाग भी अनजान बना हुआ है तथा ब्लैक मार्केटिंग करने वालों पर अभी तक शिकंजा नहीं कसा जा सका है।

कोरोना के नाम पर लूट : 50 हजार में बिक रहा 15 सौ रुपये का रेमडेसिविर इंजेक्शन
X

remdesivir injection

फरीदाबाद। कोरोना मरीजों के लिए संजीवनी साबित हो रहे रेमडेसिविर इंजेक्शन की फरीदाबाद में जमकर ब्लैक मार्केटिंग हो रही है। 15 सौ रुपये में मिलने बाला इंजेक्शन पचास हजार रुपये में बिक रहा है। कोरोना मरीजों के परिजन इसे पचास हजार रुपये में भी खरीदने को मजबूर हो रहे हैं।

खास बात तो यह भी है कि इस इंजेक्शन की बड़े लेवल पर हो रही ब्लैक मार्केटिंग से स्वास्थ्य विभाग भी अनजान बना हुआ है तथा ब्लैक मार्केटिंग करने वालों पर अभी तक शिकंजा नहीं कसा जा सका है। गौरतलब है कि दिल्ली से सटे होने के चलते फरीदाबाद में भी कोरोना का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है यहां हर रोज हजार के करीब कोरोना के मरीज निकल रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग सिर्फ उसी व्यक्ति की जांच कर रहा है जो कि स्वयं जांच केंद्रों पर जाकर जांच के लिए कहता है। संदिग्ध लोगों की जांच करना स्वास्थ्य विभाग अभी तक मुनासिब नहीं समझ रहा। फरीदाबाद में तेजी से बढ़ते कोरोना ग्राफ के चलते इस बीमारी के मरीजों के लिए संजीवनी साबित हो रहे हैं रेमडेसिविर इंजेक्शन की ब्लैक मार्केटिंग शुरू हो गई है। हालात यहां तक आ पहुंचे हैं कि जो इंजेक्शन 15 सौ रुपये में आसानी से उपलब्ध हो जाता था अब वह पचास हजार रूपये में बेचा जा रहा है वह भी काफी मशक्कत लगाने के बाद। हालात यह बन गए हैं कि फरीदाबाद के सभी अस्पताल कोरोना मरीजों से अटे पड़े हैं और रेमडेसिविर इंजेक्शन की उपलब्धता अस्पतालों में नहीं बन पा रही जिस किसी भी व्यक्ति के पास यह इंजेक्शन स्टॉक में है वह मौके का पूरा पूरा फायदा उठा रहा है।

क्या कहते हैं डॉक्टर

सेक्टर 19 स्थित कृष्णा मेडिकल सेंटर के डॉ सुरेंद्र दत्ता का कहना है कि कोरोना मरीजों की संख्या आए दिन बढ़ रही है और रेमडेसिविर

इंजेक्शन की उपलब्धता मांग के अनुसार नहीं हो पा रही है जिससे किल्लत बढ़ती जा रही है। उन्होंने सरकार से मांग की की इंजेक्शन की उपलब्धता बढ़ाने की दिशा में काम किया जाए और ब्लैक मार्केटिंग करने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाए।

Next Story